Posts

बधाई अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस की

अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर आज सुबह से लगातार वहाटसऐप पर ढेरों मीम और मैसेज आ रहें है । हमें क्या आप सबको भी भर भर कर वीमेंस डे के संदेश आ रहे होंगें । कुछ तो ऐसे कि पढ़कर हँसी आ जाये तो वहीं कुछ नारी शक्ति को दर्शाने वाले तो कुछ नारी विशेष को दर्शाने वाले । वैसे कोरोना और लॉकडाउन के दौरान नारी शक्ति का हर रूप हम सबमें बख़ूबी दिखाई दिया था । ना कोई काम रूका और ना ही कोई काम कम हुआ था । बल्कि काम चौगुना हो गया था । पर मजाल है जो कोई गिला शिकवा किया हो । बल्कि उस लॉकडाउन के समय तो हम सभी की विलक्षण प्रतिभा ही उभर कर सामने आई थी । और ऐसा उभरी कि लॉकडाउन ख़त्म होने के बाद भी बरकरार है । 😁 तो चलिये अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस की हम सभी को बहुत बहुत बधाई ।

टेस्ट मैच देखा क्या 😊

क्रिकेट तो हमेशा से हम हिन्दुस्तानियों के दिल और दिमाग़ में बसता है । फिर वो चाहे साठ सत्तर वाला दशक रहा हो या अस्सी नब्बे का दशक रहा हो या अभी हाल का समय रहा हो । अब पुराने ज़माने में तो सिर्फ़ टेस्ट मैच ही होते थे पर तब भी कमेण्ट्री सुनने के लिये सबके मन में पूरा जोश रहता था । और उन दिनों हर आदमी कान में रेडियो लगाये नज़र आता था । और क्रिकेट कमेंट्रटर ( सुशील दोशी ,जसवंत सिंह ) जिस तरह हर बॉल के साथ दौड़ते हुये कमेंट्री करते थे वो भी लाजवाब होता था । जिसने सुना होगा उसे याद होगा कि वो किस तरह बोलते थे कि गावस्कर ने गेंद को बाउंड्री की तरफ़ मारा और गेंद बाउंड्री की तरफ़ जा रही है खिलाड़ी गेंद को पकड़ने के लिये दौड़ रहें है और ये गेंद बाउंड्री के पार चार रन के लिये । 🤓 बचपन में हमारे बाबा जाड़े में धूप में ( तब सिर्फ़ जाड़े में ही क्रिकेट होता था ) बैठकर क्रिकेट कमेंट्री सुना करते थे । जब भी इंडिया का कोई क्रिकेट टेस्ट मैच होता था तो बाबा पूरे दिन कान में टरांजिसटर लगाकर सुनते रहते थे और जब भी कोई चौका लगता या कोई आउट होता था तो खूब ज़ोर से चिल्लाते थे ये मारा चौका या क्

हमारे वैक्सीन लगवाने का ऐतिहासिक दिन

Image
सीनियर सिटीजन होने का आज पहली बार मजा मिला ।😀 अब यूं तो हम पिछले साल ही सठिया गए थे पर corona के चलते सठियाने का कुछ ज्यादा लुत्फ़ नही उठा पाए थे । और हमारे सारे plan धरे के धरे रह गए थे । वैसे पिछले साल जब हम अपना सठियाने वाला जन्मदिन मनाने उदयपुर गए थे और वहां एक जगह टिकट लेने पर जब काउंटर वाले ने बेटे से पूछा की कोई सीनियर सिटीजन है तो छोटे बेटे ने कहा कि नहीं ।   तो जब उसने हम लोगों को ये बताया तो बड़ा बेटा हंसते हुए बोला कि अरे हम लोग तो यही सेलिब्रेट करने (60 yrs )आए है ।  खैर उस समय तो नही पर आज सठियाने का फायदा हुआ । अरे भाई covid की vaccine जो आज यानि पहली मार्च दो हजार इक्कीस (1.3.2021) से साठ साल के ऊपर वालों को लगनी शुरू हुई तो जैसे एक ज़माने में हम पिक्चर का फर्स्ट डे फर्स्ट शो देखते थे वैसे ही आज हमने vaccine का फर्स्ट डे फर्स्ट शो देखा ।😁 मतलब COVISHIELD Vaccine लगवा ली । वैसे तो आप सभी जानते है कि vaccine लगवाने के लिए सबसे पहले co win की एप या वेबसाइट पर जा कर रजिस्ट्रेशन करना होता है ।  तो सुबह जब वेबसाइट पर जाकर रजिस्टर करना शुरू किया तो जब भी रजिस्टर करते तो उसमें

भूकम्प और हम 😁

कल रात में दिल्ली सहित कई जगहों पर भूकम्प आया था । और काफ़ी अच्छा ख़ासा भूकम्प था । और इसका एहसास हम लोगों को भी हुआ था । हम लोग ड्राइंग रूम में थे और मूबी पर फ़िल्म देख रहे थे कि अचानक लगा मानो किसी ने सोफ़े को हल्का सा धक्का दे दिया हो । और ऐसा महसूस होते ही हम बड़ी ज़ोर स चिल्लाये कि अरे भूकम्प । पतिदेव बोले कि क्या भूकम्प आया है । तो हमने कहा हाँ , देखो पंखा और लैम्प शेड हिल रहें है । और ऐसा कहते हुये हमने वीडियो बनाना शुरू कर दिया । 🤓 फिर हमने मेन डोर खोला पर तब एक दो मिनट के लिये लगा कि सब कुछ रूक गया है पर तभी एक बार फिर से ज़मीन हल्की सी हिलती हुई महसूस हुई तब तक बडा बेटा भी कमरे से बोलता हुआ आया कि अभी भी भूकम्प है । तो हमने हाँ कहते हुये छोटे को आवाज़ लगाई । क्यों कि वो फोन पर बात कर रहा था । और एक बार फिर से लैम्प शेड वग़ैरा हल्के हल्के से झूमने लगे थे । और हम दोबारा वीडियो बनाने लग गये । तो पतिदेव बोले क्या तुम हर समय वीडियो बनाने लगती हो । अब हम भी क्या करें । डर को भगाने के लिये कुछ तो करना होगा ना । 😳 अब आप भी कहेंगें कि भूकम्प में डर कर वीडियो बनाने

टैक्नॉलजी का ऐसा कमाल

Image
कल हमारे भइया ने इलाहाबाद की एक फोटो शेयर की जिसे देखकर हम आश्चर्य में आ गये । कि अरे क्या ऐसा भी हो सकता है । ये जो फोटो है , ये उस जगह की है जहाँ दो दिन पहले तक मंदिर हुआ करता था पर अब वहाँ मंदिर नहीं है । ऐसा सुना है कि वहाँ से मंदिर को कहीं और शिफ़्ट कर दिया गया है क्योंकि वहाँ पर फ़्लाई ओवर बनना है । कुछ नहीं तो कम से कम पचास साल से ज़्यादा पुराना मंदिर तो रहा ही होगा । वो हम इसलिये कह रहें हैं क्यों कि जब हम नौ -दस साल के रहे होगें तब से इस मंदिर को देख रहें है । हमने हमेशा से इस पीपल के पेड़ की छांव में मंदिर देखा है और आते जाते भगवान के आगे नतमस्तक भी होते थे । और कैसे रातों रात में मंदिर को वहाँ से कहीं और शिफ़्ट कर दिया गया ये तो टैक्नॉलजी का ही कमाल होगा क्यों कि ना केवल पूरा का पूरा मंदिर बलकि वहाँ जो भी चारों ओर बनी दीवार ग्रिल वग़ैरा का मलबा रहा होगा वो भी पूरी तरह से साफ़ । आश्चर्य है कि वहां ना कोई गड्ढा ना ही उबड़ खाबड़ जमीन । और अब आलम ये है कि इस जगह को देखकर तो कहा ही नहीं जा सकता है कि वहाँ कभी मंदिर भी था ।

क्या कहता है ये विज्ञापन

Image
परसों पश्चिम विहार से लौटते हुए हमने एक बैटरी रिक्शा के पीछे ये विज्ञापन देखा और फोटो ले ली । और रास्ते भर हम इस विज्ञापन में लिखे हुए संदेश के बारे में सोचते रहे । और ये हमारी समझ से परे था । क्यूंकि अगर किसी का सोना गिरवी रक्खा  है तो वो कौन सा सोना बेचकर गिरवी रक्खा हुआ सोना छुड़ाएगा । और अगर किसी के पास इतना सोना है तो भला वो सोना गिरवी क्यूं रक्खेगा । हम थोड़ा कंफ्यूज हो गए है ।🙄 आप लोगों का क्या सोचना है इस विज्ञापन के बारे में ।

कभी भुनी हुई मूँगफली को धोकर खाया है

Image
आप भी सोच रहें होंगें कि भला भुनी हुई मूँगफली को कौन धोकर खाता है । हमने खाई है। 😁 दरअसल में क़िस्सा यूँ है कि अब आजकल तो कोरोना के चलते हर सामान वो चाहे फल सब्ज़ी हो या चाहे राशन , सभी चीज़ों को या तो सैनिटाइज किया जाता है या फिर पानी से धोया जाता है । तो हुआ यूँ कि हमने कुछ फल सब्ज़ियों के साथ जाड़े का मेवा यानि भुनी हुई मूँगफली भी मँगाई थी । और सब सामान बैग में ही था । जब हमारी पार्वती ( हैल्पर ) आई और बैग देखकर उसने पूछा दीदी सब फल सब्ज़ी धोकर रखना है । तो हमने हाँ कहा । और हम कुछ काम करने कमरे में चले गये । हालाँकि बीच में उसने हमें आवाज़ लगाई कि दीदी सब कुछ धोकर रखना है । तो हमने भी कमरे से ही बोला कि हाँ सब कुछ धोकर डलिया में रख दो । हम भूल गये थे कि फल और सब्ज़ियों में मूँगफली का पैकेट भी है । बस फिर क्या था पार्वती ने पैकेट फाड़ा और उस भुनी मूँगफली को पानी से धोकर डलिया में सब के साथ रख दिया । और अपना काम करके वो घर चली गई । बाद में जब हम अपना काम ख़त्म करके आये और मूँगफली खाने के लिये पैकेट ढूँढने लगे तो हम समझ नहीं पाये कि आख़िर मूँगफली का