Posts

Showing posts from September, 2007

कुछ और गोवा के गणेश चतुर्थी की तसवीरें

Image
आज हम कुछ और गणेश चतुर्थी की फोटो लगा रहे है ।जो गोवा मे अलग-अलग जगहों पर और कुछ अलग सी चीजों को इस्तेमाल करके बनाया गया है। इनमे गणेश जी के विभिन्न रुप दिखते है । और साथ ही हर मूर्ति मे कुछ नया सा है । यहां घरों मे रखे जाने वाले तथा पंडालों मे स्थापित गणेश की प्रतिमा और सजावट के लिए प्रतियोगिता रखी जाती है । भाई हमने तो इतने विविध रुपी गणेश पहले कभी नही देखे थे , हो सकता है आप लोगों ने देखे हो पर फिर भी हम इन्हें आप लोगों के लिए प्रस्तुत कर रहे है । और हाँ किसी भी फोटो को अगर आप बडे साइज मे देखना चाहते है तो उस फोटो पर क्लिक कर दीजियेगा । इस पहली फोटो मे गणेश जी के साथ ही अन्य भगवानों को भी दिखाया गया है । और इसे पंजिम के पुलिस स्टेशन मे रखा गया था । यहां गोवा के सभी पुलिस स्टेशन के बीच सबसे सुन्दर मूर्ति की प्रतियोगिता भी होती है । ये मूर्ति पंजिम के ही एक पंडाल की है जिसमे साई बाबा को दिखाया गया है । इस मूर्ति मे गण

वाह इसे कहते है चक दे इंडिया

कल के twenty-२० मैच मे यंग टीम इंडिया ने चक दे इंडिया को सही अर्थों साबित कर दिया है और पुरे देश-विदेश मे सिर्फ चक दे इंडिया ही सुनाई दे रहा है। क्या जीत थी .उफ़ इतनी रोमांचक कि हर बॉल पर लगता की अब गए की तब गए।पर आख़िर मे टीम मे नए आये जोगिंदर ने विकेट लेकर भारत का विश्व चैम्पियन बनने का सपना साकार कर दिया। चौबीस साल लग गए विश्व चैम्पियन बनने मे । इधर इंडिया बना विश्व चैम्पियन और उधर पूरा देश पटाखों की आवाज से गूँज गया। बी . सी . सी . आई . ने इन खिलाड़ियों को १२ करोड़ का इनाम देने की घोषणा कर दी है । और ये टीम इनाम की हकदार भी है । युवराज को स्पोर्ट्स कार और एक करोड़ का इनाम भी दिया जाएगा । क्या बात है बल्ले - बल्ले । धोनी की कप्तानी मे टीम इंडिया ने तो कमाल ही कर दिया । पहली कप्तानी मे विश्व कप जीतना किसी कमाल से कम तो है ही नही । इस बार तो जितनी टीम की तारीफ की जाये वो कम है । और धोनी ने जीतने के बाद भी जैसा संतुलन बनाए रखा वो काबिले तारीफ है । और जैसा धोनी ने कहा की वो ह

प्रशांत बन गए इंडियन आइडल

कल रात दार्जिलिंग के प्रशांत ने शिलोंग के अमित पाल को एस.एम.एस.के जरिये होने वाली वोटों की गिनती मे पीछे छोड़ दिया और सिपोय प्रशांत बन गए तीसरे इंडियन आइडल। सात करोड़ वोट बाप रे ऐसा लगता है की लोग सारे काम-धंधे छोड़ कर सिर्फ एस.एम.एस ही करने मे लगे थे। जहाँ तक हमे याद है इतने ज्यादा वोट तो हिंदुस्तान की जनता ने ताज महल के लिए भी नही किया था।यहां देश से बड़ा राज्य हो गया लगता है क्यूंकि जिस तरह से दार्जिलिंग और शिलोंग के लोगों ने वोट किया है ये सात करोड़ वोट यही सच्चाई बताते है। पर ज़ी के शो सा.रे.गा.मा.पा. के विश्व युद्ध से छत्तीसगढ़ की सुमेधा शो से बाहर हो गयी इसलिये नही की वो खराब गाती थी ( वो सबसे अच्छा गाती थी) बल्कि इसलिये बाहर हो गयी क्यूंकि उन्हें छत्तीसगढ़ से वोट नही मिले और जैसा की उनके पिता ने कहा की छत्तीसगढ़ मे ६५ जगहों पर ज़ी टी.वी.नही आता है और लोग नही जानते है की ज़ी पर ऐसा कोई शो हो रहा है। हारने या जीतने पर लोग देश की जनता का नही अपने प्रदेश की जनता को ही श्रेय देते है। पर कोई ये तो बताये की आख़िर वो टॉप फाइव तक कैसे पहुंची ? वैसे एस.एम.एस करने की जैसी दी

गोवा मे गणेश चतुर्थी

Image
उत्तर भारत में तो हरतालिका तीज मनाई जाती है जिसका जिक्र ज्ञानदत्त जी ने अपनी पोस्ट मे किया था।और हम भी तीज करते है और इस दिन गुझिया ,मालपुआ वगैरा बनाते है और पतिदेव का खर्चा भी करवाते है। वैसे दिल्ली वगैरा मे खोया मिलने मे दिक्कत नही होती है पर यहां गणेश चतुर्थी की वजह से खोया मिलना जरा मुश्किल होता है। जहाँ उत्तर भारत मे महिलाएं तीज की खरीददारी मे व्यस्त थी वहीँ यहां गोवा मे लोग गणेश चतुर्थी की तैयारी मे लगे हुए थे।क्यूंकि गणेश चतुर्थी यहां का बड़ा त्यौहार माना जाता है।ज्यादातर लोग अपने घरों मे भी गणेश की स्थापना करते है। आप कहीँ भी जाएँ हर तरफ भीड़ क्या सब्जी मंडी क्या कपडे की दुकाने। बाजार मे हर तरफ रौनक दिख रही थी। और मिठाई की दुकानों मे तरह - तरह के लड्डू , मोदक बिक रहे थे । यहां पर गणेश चतुर्थी डेढ़ दिन से लेकर ग्यारह दिन तक मनाई जाती है । जो लोग घर मे गणपति की स्थापना करते है वो या तो डेढ़ दिन या पांच दिन मे मूर्ति का विसर्जन कर देते है। पर सार्वजनिक स्थलों पर होने वाली पूजा आम तौर पर नौ या ग्यारह दिन तक चलती है।वैसे margaon मे ज्यादा कैथो

राम का नाम बदनाम ना करो

ये पंक्तियाँ देव आनंद की फिल्म हरे रामा हरे कृष्णा के गाने की है जो उस समय उस फिल्म मे तो हिप्पियों के संदर्भ मे गाया गया था पर आज राम सेतु विवाद को पढ़-सुनकर भी यही कहने को मन कहता है। राम का अस्तित्त्व था या नही ये बहस अभी और ना जाने कितने दिन चलेगी। पर क्या ऐसा कह देने भर से राम का अस्तित्व ख़त्म हो जाएगा। और बहस चले भी क्यों ना आख़िर राजनीति मे तो हर कुछ जायज है।क्यूंकि सरकार और विरोधी पक्ष का यही तो काम है लोगों की भावनाओं से खेलना। जब देखो तब एक शगूफा छोड़ देती है। अगर सरकार चाहेगी तो राम सेतु की जगह सेतुसमुन्द्रम शुरू होकर ही रहेगा चाहे कोई कुछ भी कहता रहे। आजकल तो हर कोई राम के अस्तित्व को नकार सा रहा है। कल करूणानिधि और शरद यादव भी ऐसी ही कुछ बातें कर रहे थे।पर आख़िर राम के अस्तित्व पर इतना ज्यादा विवाद होना कहां तक तर्क संगत है। क्या लोगों की भावनाओं की कोई कीमत नही है। राम थे या नही ये कौन निर्धारित करेगा ? ये नेता जिनमे से आधे से ज्यादा लोगों के नाम मे कहीँ ना कहीँ राम शब्द आता है।और नवरात्रि हो या दशहरा हो ये नेता राम की पूजा करते हुए ही दिखते है। क्यों? जब राम ही नह

डी -एडिक्शन (कोई शराब क्यों पीता है )

हमने कुछ समय पहले डी - एडिक्शन के बारे मे लिखा था की हम किस तरह से इस डी-एडिक्शन कैंप से जुडे थे।जिस तरह हर संस्था का कोई नाम होता है ठीक उसी तरह इस संस्था का नाम साथी रक्खा गया था । और अंडमान मे पोर्ट ब्लेयर के जी.बी.पंत हॉस्पिटल के कमरा नम्बर ४७ मे ओ.पी.डी.शुरू की गयी थी । जिस तरह किसी भी काम को शुरू करने के लिए सबसे पहले उसकी तह तक पहुँचना बहुत जरुरी होता है ठीक उसी तरह डी-एडिक्शन मे सबसे पहले ये जानना होता है की आख़िर व्यक्ति को शराब के नशे की आदत कैसे पड़ी। यूं तो शराब पीने के लिए कोई बहाने के जरुरत नही होती है पर फिर भी कुछ ऐसे कारण होते है जिन्हे लोग समझते है कि उन कारणों की वजह से ही उन लोगों ने शराब पीना शुरू किया ।यूं तो पीने के लिए कोई भी कारण नही होता है पर फिर भी लोग ढेरों कारण ढूँढ लेते है। और ऐसे ही कुछ कारण यहां पर हम लिख रहे है जो हमे ओ.पी.डी.मे आये हुए लोगों ने बताये थे। १ )ख़ुशी मनाने के लिए। २ ) दोस्तो का साथ देने के लिए । ३)दुःख भुलाने के लिए। ४)बाप शराबी है। ५)बीबी से पटती नही है। ६)पारिवारिक कलह के कारण। ७)ऑफिस मे अधिक काम होना। ८ )थकान मिटाने के ल

ग्यारह सितंबर का दिन किस पर कितना भारी

कल ग्यारह सितंबर का दिन था। और इस दिन को तो पूरी दुनिया मे शायद ही कोई भूल सकता है। क्यूंकि ९/११ के नाम से अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर मे हुए हादसे की याद आ जाती है जिसमे देखते ही देखते ट्विन टावर को हवाई जहाज से गिरा दिया गया था और जिसमे सैकड़ों लोगों की जान चली गयी थी। हालांकि इस हादसे को छे साल हो गए है पर अमेरिका को ये दिन अभी भी दहशत भरी यादों की याद दिलाता है।यूं तो आजकल हादसे आम व्यक्ति की जिंदगी का हिस्सा बनते जा रहे है । पर ग्यारह सितंबर का दिन ना केवल अमेरिका बल्कि उत्तर प्रदेश के लिए भी कुछ ऐसा ही दिन रहा जहाँ मायावती की सरकार ने मुलायम सिंह की सरकार द्वारा भर्ती ६५०० पुलिस जवानों की नियुक्ति को रद्ध कर दिया और १२ आई.पी.एस अफसरों को सस्पेंड कर दिया क्यूंकि ये १२ आई.पी.एस अफसर उन boards मे थे जिन्होंने इन पुलिस वालों का चयन कर उन्हें नियुक्त किया था। अब देखना ये है कि क्या मायावती इन पुलिस वालों की जगह फिर से भरती है या नही ?और अगर भर्ती करती है तो किस आधार पर। निष्पक्ष या फिर जातिवाद पर आधारित। या वो भी वही करेंगी जो मुलायम सिंह ने किया था ? आजकल हैदराबाद मे एक-क

गोवा मे लैंड स्लाइड

Image
आप कहीँ ये तो नही सोच रहे है कि इस लैंड स्लाइड की वजह से हम इतने दिन से पोस्ट नही लिख रहे थे ,तो ऐसा बिल्कुल नही है । अरे नही हम जरा छुट्टी के मूड मे थे । वो क्या है ना कि दो - तीन महीने बाद हम गोवा लौटे है ना तो बस इसीलिये थोडा गोवा घूम फिर रहे थे । क्यूंकि बारिश मे गोवा बहुत खूबसूरत लगता है चारों तरफ हरियाली ही हरियाली नजर आती है । पर बारिश की वजह से समुन्दर का रंग आजकल नीले - हरे की जगह भूरा या मटमैला सा दिखता है । वैसे हमे तो दिल्ली से आने के बाद यहां की बारिश बहुत अच्छी लग रही है क्यूंकि दिल्ली मे जितनी गरमी पड़ रही थी उसके मुक़ाबले यहां का मौसम तो बहुत ही खुशगवार है । इस फोटो पर क्लिक करके देखने से पता चलता है की किस तरह से इस पहाड़ ने सड़क को ब्लॉक कर रक्खा है । गोवा मे करीब दस दिन पहले पोर्वेरिम मे लैंड स्लाइड हुआ था और अभी तक पहाड़ गिर ही रहा है।पंजिम से पोर्वेरिम(porverim) या मापुसा(mapusa) जाने के लिए मान्डावी नदी पर बने पैटो (patto) ब्रिज को