क्या उल्लू के घर मे रहने से लक्ष्मी मिलती है ?



कल पंकज जी की पोस्ट पढी थी जिसमे उन्होंने अशोक के पत्ते के बारे लिखा था।और उनकी उसी पोस्ट ने हमारे मन मे ये जिज्ञासा जगाई और आज इसलिए हम ये सवाल पूछ रहे है।असल मे हमारे इस गोवा वाले घर मे भी एक उल्लू महाराज रहते है , आम तौर पर तो ये रात मे ही बाहर निकलते है पर एक बार ये महाराज शाम को ही बाहर निकल आए थे इन्हे शायद कुछ समय का confusion हो गया था। :) पर जब तक हम कैमरा लाते ये महाशय वापस अपने घर मे चले गए थे। और फ़िर रात होने पर ही निकले थे। इस फोटो मे आप इन्हे देख सकते है हालांकि फोटो ज्यादा अच्छी नही आई है क्यूंकि एक तो रात हो गई थी और दूसरे एक -दो फोटो खींचवाने के बाद ये उड़ जाते है अब तो कभी-कभार हम इन उल्लू महाराज से (बिल्कुल सलीम अली की तरह)बात भी करते है :)



वैसे इस सवाल पर दो तरह की धारणाएं हम सुनते रहे है

) आज नही हमेशा लोगों को कहते सुना है की जिस घर मे उल्लू बसते है वहां लक्ष्मी का वास होता है आखिर लक्ष्मी जी का वाहन जो है।( तो क्या हमे छप्पर फटने का इंतजार करना चाहिए । ) :)
) पर साथ ही ये भी सुनते रहे है कि घर मे उल्लू का रहना अच्छा नही होता है।

तो कौन सी धारणा को मानना चाहिए।
या दोनों ही धारणाओं को नही मानना चाहिए
अरे तब तो हमारा बड़ा नुकसान हो जायेगा :)

Comments

पीपल पर भूत रहते हैं। पीपल भगवान हैं। गीता में कहा है कृष्ण(?) ने वृक्षों में पीपल मैं हूँ। कौन सी बात सही है?
Pankaj Oudhia said…
उल्लू से लक्षमी आयेगी कि नही यह तो मुझे पता नही पर आपका घर और आस-पास कीट-पतंगो से बचा रहेगा। उल्लू किसानो के मित्र होते है क्योकि वे कीट पतंगो को खाकर फसल की रक्षा करते है। वे चूहे भी खाते है। आज का किसान अपनी दोस्ती नही निभा रहा है। वह कीटनाशक डाल रहा है जिससे उल्लू जैसे बहुत से संवेदी जीव तेजी से कम हो रहे है। जहाँ नुकसान पहुँचाने वाले कीट और चूहे न हो वहाँ तो अच्छा स्वास्थ्य रहता है। और जहाँ अच्छा स्वास्थय रहता है लक्ष्मी अपने आप आ जाती है।


दिनेश जी पीपल मे भूत हो या भगवान दोनो के बारे मे बतायी गयी बाते आज पीपल की रक्षा कर रही है। भूत और भगवान का भय आगे भी इन्हे बचाये रखेगा। काश ऐसी बाते दूसरे पेडो के साथ भी जुडी होती तो हमारे जंगल बच जाते।
आभा said…
बडीं छंछट है मै भी उलझ गई.....
annapurna said…
आप उल्लू से भी बातें करती है ? कभी उसे हमारे बारे में भी बताइए।
अगर ऐसा होता टू अब तक हिंद्स्तान से गरीबी मिट गई होती.
क्योंकि यहाँ हर शाख पे .......
अंअंधविश्वास से बचे . कंक्रीट युग मे लक्ष्मी लेन्टर फाड़ कर नही आवेगी . लक्ष्मी जी दरवाजे के रास्ते आती है . होली पर्व की ढेरों शुभकामना के साथ .
मैने तो कई इंसानी उल्लू देखे हैं; जिनके पास बहुत पैसा है। पैतृक भी और खुद का कमाया भी!
यदि आपके घर लक्ष्मी छप्पर फाड़ के बरसे तो उन उल्लू महाराज को हमारे ब्लॉग का रास्ता दिखा देना :) क्यूंकि आज कल बहुत पढ़ रहे हैं कि जल्दी ही हिन्दी ब्लागिंग से बहुत धन बरसाने वाला है . ..अब लक्ष्मी जी के वाहन को रास्ता तो पता होना चाहिए न :)होली की बहुत बहुत बधाई :)
सूना तो मैंने भी है, मगर यह तथ्यपरक नही है , अगर ऐसा होता तो गरीबी दिखाई ही नही देती , वैसे अच्छी लगी आपकी पोस्ट ...!
इष्टदेव जी की टिप्पणी बड़ी मजेदार है। :)

जितना उल्लू मानव के लिये उपयोगी है उतना शायद ही कोई अन्य पक्षी, दुर्भाग्य से तांत्रिकों ने इस पक्षी की प्रजाति को नष्ट करने का बीड़ा उठाया हुआ है।
दीपावली के आस पास ( खासकर काली चौदस को) उल्लू की बली चढ़ाई जाती है और एक एक उल्लू 1.5 लाख ( अलग अलग रंग और प्रजाति के हिसाब से) तक बिकता है।
दस्तक
तकनीकी दस्तक
गीतों की महफिल
mamta said…
आप सभी का शुक्रिया ।
अरे महेंद्र जी यहां गोवा मे हमारे घर की छत कंकरीट की नही बल्कि वाकई मे छप्पर ही है। :)
बिल्कुल अनुराधा जी अगली बार हम आपका जिक्र जरुर करेंगे।
रंजू जी बिल्कुल-बिल्कुल ।
पंकज जी और सागर जी उल्ले के बारे मे तो हमे ये बातें पता ही नही थी।
ममता जी हमारे भारत मे तो बहुत उल्लु हे , फ़िर इतनी गरीबी कयो हे कही सार्रे उल्लु टाटा बिरला ने तो नही पकड लिये ?
उल्लू बुद्धिमान पक्षी है और केवल बुद्धिमान लोगों के घर ही निवास करता है. यह मेरी खोज है क्योंकि वह कई बार रात को मेरे बाहर खडे पेड़ पर बैठा रहता है. यह पेड़ हम दो पडोसियों के बीच स्थित है इसलिए यह कहना मुश्किल है कि हम दोनों में कोई एक बुद्धिमान है या दोनों ही.
दीपक भारतदीप
Unknown said…
Ullu ek budhiman pakchi to hai
Unknown said…
Har roj mere ghar ke pas rahta hairatko
Unknown said…
Mere ghar k angan me roj 2 ullu ate the or kuchh din se ek ullu aa rha h ... Mujhenhi pta ye bura h ya fir achha... Pr main ise shubh hi manugi kyuki main kisan hu aur ganv me hi rahti hu... Mujhe abhi kya chala ki ullu kisan k liye dost h....
Sonu kumar said…
Mujhe ek ullu ka bachcha Mila hai maine use ped par rakh diya tha par uski maa use vaapas nahi lekar gayi ab wo mere paas hai main use kya khila Sakta hu
Yadvendu said…
Ullu ke bare me mera bhi kuch(5years) ka experiment hai, jo ki bhut bura hai.
Kya right kya wrong ye to aapne life ke anubhav pe nirbhar karta hai, but,
Kisi ko kuch jayda mallum ko to plz contact mi....
Unknown said…
mein animal NGO se hu mein or mere dono bhai lambe samay se jaanwaro ka upchaar karte hain jisme kutta bandar gaay bakri koi bhi pakshi ho sbka ilaaj ham log karte hai abhi kuch time phle ki baat hai mujhe ek ullu beemaar pada mila jiske pankh me bhot gahraa ghaav tha shayad pakshiyo ki apas me ladaayi hui ho ya fir kisi maanav ne uska shikaar khela ho uske baad uska upchaar kiya gya or wo ab bilkul theek hi mere ghar pr he rahta hi or ham logo se bhot pyaar krta hi ab wo hamara family member hai
Unknown said…
उल्लू का भोजन क्या होता है, घर में अगर आ जाये छोटा बच्चा, तो उसे क्या खिलाया जाये ?

Popular posts from this blog

निक नेम्स ( nick names )

क्या सांप की आँख मे मारने वाले की तस्वीर उतर जाती है ?(एक और डरावनी पोस्ट )