Monday, February 18, 2008

आम तौर पर हम ब्लौग्वाणी ही इस्तेमाल करते है और इससे काफ़ी संतुष्ट भी है। पर आज एक अजीब सी बात देखने को मिली। और इसीलिए हम ये पोस्ट लिख रहे है।अभी दूसरे लोगों के ब्लॉग पढ़ते-पढ़ते हमने अचानक नोटिस किया कि हमारी आज सुबह वाली पोस्ट अब ब्लॉगर मे भी चिट्ठे समय निर्धारित कर सकते ब्लौग्वाणी पर कहीं नजर नही आ रही है ।हालांकि सुबह ये पोस्ट दिख रही थी पर अभी नही दिख रही है।


अब चूँकि ब्लॉगिंग का चस्का लग गया है इसलिए दो-तीन बार पेज पर चेक भी किया पर हमारी पोस्ट कहीं नजर नही आई। तो कौतुहल वश हमने चिट्ठाजगत खोला तो वहां पर हमारी आज की पोस्ट दिख रही है। अब ऐसा क्यों है ये तो हम नही जानते है। हो सकता है कुछ तकनीकी मामला हो ।

अभी एक बार हमने फ़िर से देखा पर अभी भी ब्लौग्वाणी पर हमारी आज की पोस्ट गायब है पर चिट्ठाजगत और नारद मे मौजूद है।

ऐसा क्यों है कोई बताये।

11 Comments:

  1. PD said...
    ऐसा मेरे साथ भी एक बार हुआ था पर बहुत पहले.. शायद नवंबर में.. :)
    दिनेशराय द्विवेदी said...
    मेरे साथ भी ऐसा हो चुका है पर इस में कोई तकनीकी लौचा हो सकता है। आप उसी पोस्ट को नये लिंक पर दे दें और फिर ब्लॉगवाणी पर देखें। तकनीकी लोंचे के बारे में तो ब्लॉगवाणी ही बेहतर बता सकती है।
    पंकज अवधिया Pankaj Oudhia said...
    पता नही क्या समस्या है? मेरा पारम्परिक चिकित्सकीय ज्ञान वाला ब्लाग पहले ब्लागवाणी मे दिखता था पर अब गायब हो गया है, बाकी सब ब्लाग दिखते है। आपने बात उठायी है। उम्मीद है कि ब्लागवाणी से कोई समाधान प्रस्तुत करेगा।
    Gyandutt Pandey said...
    समाधान है कि फीड एग्रेगेटर पर डिपेण्डेंस कम हो। पर कैसे!? पढ़ने के लिये तो मैं 95% गूगल रीडर पर निर्भर हूं। पर पढ़ाने के लिये तो फीड एग्रेगेटर का सहारा होता है।
    Amit said...
    देखिए कहीं अगले पन्ने पर तो नहीं खिसक गई आपकी पोस्ट? पहले कई बार नारद के बारे में शिकायत आती थी कि पोस्ट नहीं आई परन्तु होता यह था कि पोस्ट अगले पन्ने पर खिसक जाती थी। :)
    Udan Tashtari said...
    कभी कभी चलता है..हम तो यूँ भी आपका ब्लॉग राउन्ड बिना ब्लॉगवाणी के लगा लेते है तो नो फिकर. :)
    Jitendra Chaudhary said...
    हो सकता है पोस्ट अगले पन्ने पर खिसक गयी हो, या कोई और तकनीकी दिक्कत हो। वैसे तो आप अपनी मर्जी की मालकिन है, लेकिन मेरे विचार से आपको पोस्ट लिखने से पहले, ब्लॉगवाणी से सम्पर्क करके उनके उत्तर की प्रतीक्षा करनी चाहिए थी।

    मेरा सभी चिट्ठाकारों से विनम्र निवेदन है कि किसी भी एग्रीगेटर से किसी भी प्रकार की शिकायत होने पर उसके संचालकों को इमेल करके सूचना दें, समस्या ना सुलझने पर ही पोस्ट लिखें।
    mamta said...
    pd,पंकज जी,ज्ञान जी और दिनेश जी हमे भी कुछ तकनीकी मामले जैसा ही लगा था।

    अमित जी हमने तीन-चार बार चेक करके देखा था पर पोस्ट पिछले चार पन्नों मे भी नही दिख रही थी।

    जीतू जी आपकी बात को हम आगे से ध्यान मे रक्खेंगे कि पोस्ट लिखने से पहले एग्रीगेटर से पूछ ले।

    समीर जी आपके ब्लॉग राउन्ड लेने के बारे मे पढने के बाद तो अब हम बिल्कुल ही निश्चिंत हो गए है।
    anuradha srivastav said...
    मेरे साथ भी हुआ था। पता चला कि पोस्टिंग टाइम व डेट गलत थी। शायद ऐसा ही कुछ आपके साथ हुआ हो। इस बार पोस्ट करते समय इन दोनों को चेक कर लिजियेगा।
    डॉ. अजीत कुमार said...
    कुछ दिनों पहले तक तो चिट्ठाजगत तो ख़ुद ही नजर नहीं आ रहा था.
    वैसे मेरे साथ bhii एक बार ऐसा हो चुका है.
    हाँ , समय और दिन को पोस्ट करते समय एक बार चेक कर लेना जरूरी है.
    धन्यवाद.
    Vinay Singh said...
    I like your blog and this article, this is a good knowledge. I have been doing a social work and if you see my social work please click here…. A health Portal

Post a Comment