Posts

सतवां महीना लग गया

कल यानि पच्चीस तारीख़ से सतवां महीना शुरू हो गया है । किसका ? अरे कोरोना का और किसका । ☹️ देखते देखते और काम करते करते इतने महीने हो गये पर कोरोना रूकने का , जाने का नाम ही नहीं ले रहा है । सबकी नाक में दम कर रखा है । और जाना तो दूर उलटा दिन दूनी रात चौगुनी रफ़्तार से बढ़ता ही जा रहा है । 😡 ना घूमने की आज़ादी ना ही कहीं आने जाने की ।😒 वैसे छठां महीना अच्छा गुज़रा क्योंकि बर्तन और पोछे से निजात जो मिल गई थी , अरे मतलब पार्वती के आने से कम से कम इन दो कामों से तो छुटकारा मिल ही गया है । और बाक़ी काम तो हो ही जाते है । तो चलिये सातवें महीने को भी विभिन्न प्रकार के भोजन और मिठाई बनाकर बिताया जाये । क्योंकि कोरोना काल में सिर्फ़ एक यही काम है जो निरन्तर चल रहा है बिना किसी रुकावट के । और मनोरंजन का भी ये एक अच्छा साधन रहा है क्योंकि अगर चीज़ अच्छी बन जाये तो बढ़िया और ना बने तो एक और ट्रायल करो । 😜 वैसे भी कोरोना वो बला है जो गोद भराई के बाद चली जाये तो ग़नीमत समझो ।

मुआ कोरोना स्कूल रीयूनियन भी खा गया 😡

Image
इस साल सितम्बर बहुत ही सूना सूना और खाली खाली सा बीत रहा है । 😧 पिछले तीन सालों से हर साल सितम्बर में हम लोग स्कूल रीयूनियन करते थे । यानि स्कूल फ़्रेंड्स सितम्बर के महीने में चार पाँच दिन के लिये मिलते थे । २०१७ में जब चालीस साल बाद पहली बार हम लोगों ने इलाहाबाद में स्कूल रीयूनियन किया तो हम सभी में वही चपलता और शरारत थी जो स्कूल के ज़माने में स्कूल में थी । बल्कि थोड़ी ज़्यादा ही थी । 😜 पहली बार तो महीनों की तैयारी के बाद इलाहाबाद में पहला रीयूनियन किया गया था । और वहीं ये तय हुआ कि हर साल हम लोग कम से कम चार पाँच दिन सिर्फ़ अपनी स्कूल फ़्रेंड्स के साथ ही बितायेंगें । बिलकुल दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे स्टाइल में -- जा सिमरन जी ले अपनी जिंदगी । 😛 वो चार दिन हम सब घर गृहस्थी की चिन्ताओं को छोड़कर फ़ुल ऑन मस्ती मजा करते थे । और उसी का नतीजा था कि २०१८ में हम लोग दिल्ली में मिले और २०१९ में नैनीताल में हम लोगों ने स्कूल रीयूनियन किया । हर रीयूनियन में अगला रीयूनियन कहाँ होगा ये भी तय हो जाता था । और अगला रीयूनियन आने के महीनों पहले से ही तक जब तब ग्रुप पर चर्चा भी होत

बड़े काम की चीज़

Image
अब इस कोरोना काल के दौरान बहुत कुछ नया ट्राई किया और बहुत कुछ नई नई खाने की चीज़ें भी बनाई है । और उन्हीं ट्राई की हुई नई चीज़ है ये बेकर्स विप का विपिंग क्रीम पाउडर जिससे व्हिपड क्रीम बनाना और आइसिंग करना दोनों बहुत आसान हो गये है । 😝 अब यूँ तो हम केक हमेशा से बनाते रहें है पर कभी आइसिंग नहीं करते थे । क्यूँ ? बता रहें हैं । दरअसल इसके दो तीन कारण है । एक तो पहले कभी ज़रूरत नहीं महसूस हुई । क्योंकि ख़ास मौक़ों के लिये तो बाज़ार से ही केक आता था । और दूसरे हमें आइसिंग करना बड़ा झंझटी लगता था । पहले व्हिपड क्रीम मंगाओ । कभी मिले कभी ना मिले । तो उससे अच्छा है प्लेन केक खा लो । पर अब नहीं । क्योंकि अब हमें आइसिंग करना आसान लगने लगा है । हांलाकि अभी आइसिंग करने में हम पूरी तरह पक्के नहीं हुए है । 😁 असल में कुछ समय पहले हमारी दीदी ने हमें इस के बारे में बताया था तो हमने अमेजॉन से इसे मँगाया । असल में हमने केक के लिये बल्कि क्रीम रोल बनाने के लिये मँगाया था । 😃 चूँकि ये पाउडर है तो इससे क्रीम बनाने में मुश्किल से कुछ दो चार मिनट लगते है और बस आइसिंग के लिये क्रीम तैयार

लो भइया अब यूज़र चार्ज भी दो 😳

आज सुबह सुबह ये ख़बर पढ़ने को मिली कि अब से ट्रेन में यात्रा करने वालों को यूज़र चार्ज भी देना पड़ेगा । अब सिर्फ़ टिकट लेकर ही नहीं बल्कि ट्रेन और स्टेशन को यात्रा के लिये इस्तेमाल करने के लिये यूज़र चार्ज देना पड़ेगा । हद हो गई । वैसे यूज़र चार्ज लगाने के लिये कहा जा रहा है कि अगर अच्छी सुविधायें यात्रियों को देना है तो चूँकि ख़र्चा बढ़ेगा तो इसलिये चार्ज लगाना पड़ेगा । मतलब हर तरह से जनता को ही लूटना है । लगा लो यूज़र चार्ज हम लोग कर ही क्या सकते है सिवाय पैसा देने के । अब जो ना होय सो थोड़ा वाली बात हो गई ।

आरामे बंदिश 😝

इस महीने जब से हमने अपनी हैल्पर को बुलाना शुरू किया तो हमें आरामे बंदिश टाइप वाली फीलिंग आती रहती है । अरे मतलब उसके आने से जहाँ हमें बर्तन धोने से छुट्टी होने से आराम है तो वहीं उसके रहते हम पर बंदिश भी रहती है । किचन में मत जाओ ड्राइंग रूम या डाइनिंग रूम में जाने से परहेज़ करो । अब वो क्या है ना जब सुबह वो आती है तो जितनी देर वो काम करती है उतनी देर हम अपने कमरे में ही रहते है आराम फ़रमाते टाइप से । क्या करें छ फ़ीट की दूरी जो बनानी है लिहाज़ा जितनी देर वो किचन में बर्तन वग़ैरा धोती रहती है तो हम अंदर ही रहते है । और कभी कभी तो लगता है कि उफ़ क्या मुश्किल है कि उसके रहते हम किचन में चाय तक बनाने नहीं जा सकते है । मतलब अगर उसके काम करते चाय पीने का मन हो तो भी नहीं बना सकते है । उसके जाने का इंतज़ार करना पड़ता है । एक बंधन या यूँ कहें अपने ऊपर एक तरह की बंदिश लगी सी महसूस होती है । सुबह और शाम दोनों समय की चाय उसके आने के पहले ही बनाकर कमरे में आ जाते है और जब वो चली जाती है तब ही कमरे से बाहर निकलते है । और उसके रहते जितनी बार कमरे से निकलो तो मास्क से लैस होकर निकलो

चौदह सितम्बर यानि हिन्दी दिवस

हर साल सितम्बर महीने की चौदह तारीख़ को हिन्दी दिवस मनाया जाता है । तो हिन्दी दिवस की शुभकामनायें । यूँ तो हिन्दी हमारी राष्ट्र भाषा है पर फिर भी हिन्दी बोलने में बहुत बार लोग झिझकते है । पर क्यों ? शायद कभी ज़रूरत तो कभी सिर्फ़ दिखावे के लिये । वैसे जब हमने २००७ में ब्लॉगिंग शुरू की थी उस ज़माने में बमुश्किल हिन्दी के दो चार सौ ब्लॉगर थे पर आज के समय में हिन्दी ब्लॉगर भी हज़ारों की संख्या में है । जिसे देखकर अच्छा लगता है । हिन्दी में जो एक सबसे अच्छी बात है कि अब इसमें अंग्रेज़ी के बहुत सारे शब्द भी हिन्दी रूपी हो गये है । मतलब अब उनका आम बोलचाल की भाषा में इतना प्रयोग होता है कि वो अंग्रेज़ी के नहीं बल्कि हिन्दी के ही शब्द लगते है । हिन्दी ने उन शब्दों को आत्मसात कर लिया है । वैसे हिन्दी भले चाहे लोग बोलें या ना बोलें पर हिन्दी गाने और हिन्दी फ़िल्में जरूर देखते है । 🤓

स्मार्ट लाइट का ज़माना आया 😜

Image
स्मार्ट फोन, स्मार्ट टी वी और अब स्मार्ट लाइट । और ये स्मार्ट लाइट फ़िलिप्स ने बनाई है । और ये थोड़ी महँगी भी है । पर ठीक है ना । स्मार्ट लाइट मतलब वाई फ़ाई से कनेक्शन । और हर बार या हर समय लाइट को ऑन या ऑफ़ करने के लिये उठकर स्विच बोर्ड तक जाने की ज़रूरत नहीं है । वैसे काफ़ी समय से इसके बारे में सुनते थे कि अब ऐसी लाइट आती है जिन्हें ऐलैकसा या गूगल को कमांड देकर ऑन और ऑफ़ करा जा सकता है । 😛 पर चूँकि ये हमारे घर में अभी आई है तो हमारे लिये तो ये नई ही है ना । वैसे इसे ख़रीदने का कई बार प्लान भी बना था । पर ख़रीदी अब गई । और अभी तो सिर्फ़ एक ही बल्ब लगाया है । और ऐलैकसा को कमांड देकर लाइट को जलाया ,बुझाया और लाइट के कलर को भी बदला । 😊 और इसमें लाइट के जलने को भी शेडयूल कर सकते है मतलब टाइमर है , उसे धीमी या मध्यम करने की भी सैटिंग है । और इसे ना सिर्फ़ हम बल्कि घर के बाक़ी लोग भी कमांड दे सकते है । और ना केवल घर से बल्कि घर के बाहर रहते हुये भी । और हाँ इसमें डिस्को लाइट भी है । 💃 और हमें ऐसा करने में मतलब ऐलैकसा को कमांड देने में बडा मजा आया था । अब आप कहेंगें