Posts

Showing posts from October, 2008

मुंबई को नजर लग गई है ...

मुंबईजिसेमहानगरी,मायानगरी ,सपनोंकीनगरीऔरनजानेक्या-क्याकहाजातारहाहैजहाँधर्म-जातियाप्रांतकेलिएनहीबल्किव्यक्तिकोउसकेनामऔरकामसेजानाजातारहाहै ।परअबऐसानहीहैअबव्यक्तिकोउसकेनामऔरगाँवकेनामसेजानाजारहाहै । जनवरी२००८कीशुरुआतसेहीमुंबईमेकुछनकुछऐसाघटताचलाआरहाहैजिसेदेखऔरपढ़करलगताहैकिमुंबईकोनजरलगगईहै।

अबइसप्रदेशकीलड़ाईकोहीदेखलीजियेधीरे-धीरेकितनाविकरालरूपलेतीजारहीहै।मुंबईजहाँकेलिएकहाजातारहाहैकिवहांधर्म -जात-प्रदेशकोमहत्त्वनहीदियाजाताहैअबउसीमुंबईमेइन्हीसबबातोंकेलिएलोगोंकोमारा-पीटाजाताहै।

कुछ दिन पहले शुरू हुई प्रदेश की लड़ाई भी अब दिनों दिन बढती ही जा रही है ।चंदरोजपहलेrailwaysकीपरीक्षादेनेगएछात्रोंकेसाथजोकुछहुआउसकेबारेमेतोहमसभीजानगएहैकिकिसबुरीतरहसेछात्रोंकीदौड़ा -दौड़ाकरपिटाईकीगई।बादमेपुलिसनेकुछलोगोंकोगिरफ्तारभीकिया।परकोईफर्कनहीपड़ा ।मुंबईमेहुईछात्रोंकीपिटाईकाबदला , मुंबईसेबिहारजानेवालीट्रेनकेऐ.सी.कोचमेआगलगाकरलियागयागनीमतथीकीयात्रियोंकोउतारदियागयाथा । अभीदोदिनपहलेएकबिहारीछात्रराहुलराजकोमारागया(एनकाऊँटर ) तोकलमुंबईकीएकलोकलट्रेनमेएकलेबरकोमारदियागया । आखिरइसकाअंतक्याहोगा ? कितनेलोगोंकोअपनीजानगंवानीपड़ेगीइसप…

दीपावली की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं

दीपक का प्रकाश हर पल
आपकेऔरआपकेपरिवार के
जीवन मे एक नई रौशनी दे
बस यही कामना है हमारी

दीपावलीकीशुभकामनाओंकेसाथआइये इस शुभ अवसर पर कुछ गीत भी सुनते चले ।

Powered by eSnips.com







चलता-फिरता ATM

Image
काफ़ी दिन पहले न्यूज़ जरुर पढ़ी थी कि मोबाइल ATM उद्घाटन के बारे में पर सोचा नही था कि ऐसा हो भी सकता है . हमने तो इससे पहले चलता-फिरताATM नही देखा था पर अभी ३-४ दिन पहले हम बेटे के साथ कहीं घूमने जा रहे थे तभी SBI की इस मोबाइल ATM वैन को देखा और बिना समय गवाएं हुए हमने फोटो खींच ली ।(अपने सैल फ़ोन से ) :)

और दूसरे बैंक के भी मोबाइल ATM चलते है या नही ये पता नही पर ऐसा लगता है की इसमें सबसे पहला नंबर SBI का ही है । और हो सकता है की SBI की देखा-देखी दूसरे बैंक भी मोबाइल ATM की शुरुआत करेंगे ।

अब ATM कार्ड तो हर बैंक अपने कस्टमर को देता ही है फ़िर वो चाहे शहर में रहने वाला हो या गाँव में रहने वाला हो । इस मोबाइल ATM के आने के बाद तो लोगों को और भी आराम हो जायेगा क्यूंकि जहाँ तक हमारा ख़्याल है की इस तरह की मोबाइल ATM वैन की शुरुआत इसी लिए की गई होगी । अब मोबाइल ATM की बदौलत गाँव वाले भी बैंक की लम्बी लाइन में लगने की बजाय ATM से पैसा निकाल कर अपना समय बचा सकते है ।

क्यूँ है न अच्छी बात ।

क्या करें लगता है हम भी लो फेज मे आ गए है .... :(

जब तक हम दिल्ली मे थे उस दौरान तो हमने बहुत ही कम लिखा था पर गोवा आने के बाद सोचा था कि अब पहले की तरह ही रोज लिखा करेंगे पर पता नही जब भी लिखने चलते है तो जैसे दिमाग बिल्कुल खाली सा लगता है (है या नही पता नही ) तो कुछ आधी-अधूरी पोस्ट लिख कर छोड़ देते है . तो कभी कुछ ब्लॉग पोस्ट पढ़कर या कभी-कभी बस ब्लौगवाणी को स्क्रोल करके देख लेते है और कम्पूटर बंद कर देते है ।

पिछले १०-१२ दिन बेटा आया हुआ था तो घूमने-फिरने मे लगे थे पर कल बेटा वापिस चला गया और कल शाम से भी कई बार पोस्ट लिखने की सोची पर फ़िर न जाने क्यूँ मन ही नही हुआ । ऐसा नही है कि विषयों की कमी हो गई है इतना कुछ है लिखने के लिए पर बस लिखते समय मन उचट जाता है ।

अब इस ८ लाइन की पोस्ट लिखने मे ही आधे घंटे से ज्यादा लगा दिया तो आप समझ ही सकते है । और आज से हम कोशिश करने वाले है कि पहले की तरह ही हम अपने ब्लॉग पर लिखना शुरू कर दे । :)

गोवा का मखरोत्सव ( आरती )

वैसे हम ३-४ दिन पहले ये पोस्ट लिखने वाले थे पर लिख नही पाये क्यूंकि हमारा बेटा छुट्टियों मे घर आया हुआ है । और अब वैसे तो नवरात्र और दशहरा ख़त्म हो गया है पर फ़िर भी हमने सोचा कि इस मखरोत्सव आरती की बात कर ही ली जाए क्यूंकि ये आरती कुछ अलग तरह से होती है


गोवा के मंदिरों मे नवरात्रों के नौ दिन तक ये मखरोत्सव मनाया जाता है । और जगहों का तो पता नही पर हमने यहाँ पर ही इस तरह की आरती देखी है ।(पिछले ३ साल से ) मखर यानी की लकड़ी का बना हुआ मन्दिर जिसमे हर रोज एक नए देवी या देवता को बैठाया जाता है । इस मखर को खूब सजाया जाता है । औरफ़िरउसदेवी-देवताकीआरतीकीजातीहै।

खैर अष्टमी के दिन हम लोग भी इस आरती को देखने के लिए महालसामन्दिरगए थे । आरती रात मे नौ -साढ़े नौ के आस-पास शुरू होती है ।और ये आरती तकरीबन एक घंटे तक चलती है। और यहाँ पर एक तरफ महिलायें और दूसरी तरफ पुरूष बैठते है । आरती शुरू होने के पहले वहां पर प्रवचन होता है और फ़िर ढोल शहनाई और ताशे के साथ आरती शुरू होती है । मन्दिर मे तो लोग बहुत पहले पहुँच कर बैठ जाते है क्यूंकि बाद मे जगह नही मिलती है और एक बार आरती शुरू ह…

गोवा मे गुजरात का गरबा और डांडिया

नवरात्रोंमेगरबाऔरडांडियाखेलनेकेबारेमेसुनातोबहुतथा ( गुजरातकागरबाऔरडांडियातोपूरीदुनियामेमशहूरहै)परदेखायहाँगोवामेआकरही।दिल्लीमेतोजगहोंकीदूरीकीवजहसेडांडियावगैरादेखनेकभीगएहीनही।परयहाँगोवामेपहलीबारगरबाऔरडांडियादेखावरनाइससेपहलेतोसिर्फ़टी.वी.औरफिल्मोंमेहीदेखाथा। :)

गोवामेमीरामारपरस्थितgasperdiasclubमेगुजरातीसमाजनेइसेआयोजितकियाहै.वहांपहुंचकरलगताहैमानोगोवामेनहीबल्किएकछोटेसेगुजरातमेआगएहोजहाँकुछलड़कियांऔरऔरतेंपारंपरिकवेश-भूषामे (औरपूरेश्रृंगारकेसाथ )तोकुछसलवार -कुरतापहनेतोकुछसाड़ीपहनेदिखतीहै । लड़केभीकुछतोपारंपरिकवेश-भूषातोकुछकुरता-पैजामावगैरामेसजे-धजेघूमतेऔरडांडियाखेलतेनजरआतेहै ।वैसेरात९बजेसेगरबाऔरडांडियाशुरूहोताहै।वैसेगरबातो१०बजेकेआस-पासहीशुरुहोताहैउससेपहलेवहांपरसंगीतकीधुनबजतीरहतीहैऔरमाहौलतैयारहोतारहताहै।इसीबीचवहांखानेकीस्टालसेलोगखानेलेकरखातेरहतेहैऔरबीच-बीचमेबच्चेधुनपरनाचतेरहतेहै।



तोक्याआपतैयारहैगरबाऔरडांडियाखेलनेअरेनही-नहीदेखनेकेलिए । :)

तोदेरीकिसबातकीहैबसवीडियोकोअपलोडहोनेदीजियेऔरफ़िरआपभीआनंदउठाइएइसका ।

इसपहलेवीडियोमेआपदेखेंगेकीहरउम्रकीलड़कियां,महिलायेंऔरबच्चियांगरबानृत्यकररहीहै । मानो४पीढियांए…

कोई बताये कि आख़िर न्यूज़ के लिंक लगाने मे क्या गड़बड़ हो रही है ?

एक बार पहले भी हमने एक न्यूज़ के साथ लिंक लगाने की कोशिश की थी पर सबने टिप्पणी की कि न्यूज़ के लिए दिया गया लिंक नही खुल रहा है और आज भी हमने पोस्ट पर लिंक लगाया तो सीमा जी कि टिप्पणी मिली कि लिंक नही खुल रहा है तो हमने भी जब कई बार चेक किया तो देखा वो लिंक भी नही खुल रहा है ।तब से कई बार कोशिश कर चुके पर असफल रहे . आख़िर क्या वजह हो सकती है जबकि पहले तो जब भी गूगल के लिंक देते थे तो वो खुल जाते थे और न्यूज़ पढ़ी जाती थी। तो अब क्या हो गया है। वैसे अभी हाल मे ही ये प्रॉब्लम शुरू हुई है । कोई हल बताइये।

नोट -- ज्ञानजीऔरसीमाजीहमनेअबपूरीन्यूज़लिखदीहै । :)

घर को भी अब लिफ्ट करा ले ...

आपने अदनान सामी का वो गाना तो सुना ही है जिसमे वो मुझकोभीतूलिफ्टकरादे गाते थे । खैर अदनान के गाये गाने को अब बदले हुए अंदाज मे कहा जा सकता है । माने मुझको भी तू लिफ्ट करा दे की जगह घर को भी अब लिफ्ट करा ले कह सकते है । कैसे वो ऐसे कि २-३ दिन पहले न्यूज़ फ्लैश देखा था कि लिफ्टहुआबंगला पर न्यूज़ पूरी नही देखी थी । कल अखबार मे ये ख़बर देखी और बरबस अदनान सामी का गाना याद आ गया ।

तो ख़बर ये है कि सतन पाल जो कि हरियाणा पुलिस मे हेड कांस्टेबल है उनके दोमंजिला घर को ११.३ फीट जमीन से ऊपर लिफ्ट कर दिया गया है और ये काम सिर्फ़ ३५-४० दिन मे पूरा किया गया है । किसने और कैसे किया है इसके लिए
पढिये
सीमाजीऔरज्ञानजीकीटिप्पणीपढनेकेबादहमनेसोचाकीजबलिंकनहीखुलरहाहैतोहमहीपूरीख़बरलिखदेतेहै । :)

गुडगाँवकेसतनपालजीनेअपनाघर१०सालपहलेबनवायाथाऔरपिछले१०सालोंमेसड़कनिर्माणकीवजहसेउनकेघरकालेवलनीचाहोतागयाजबकिसड़ककालेवलऊपरउठतागयाजिससेउनकेघरमेजबतबपानीभरजाताथा। औरइसलिएसतनपालजीनेएकबारउसघरकोछोड़करजानेकामनभीबनालियाथापरतभीउन्हेंमामचंदएंडसंसकेबारेमेपताचलाजिन्होंनेहरियाणाकेकुछऔरघरोंकोभीजमीनसे२-३फीटऊपरउठायाहै ।इसकंपनीकोराजेशचौहा…

TIATR ( तिअत्र ) कुछ अलग है

ये शब्द पढने और सुनने मे कुछ अजीब सा लग रहा है परअसलमेऐसाकुछनहीहै ।वैसे इसका सही उच्चारण भी अभी तक ठीक से क्या है हमें पता नही है क्यूंकि कोई तिअत्रतोकोईतिअतरतोकोईतियत्र कहता है । खैर नाम मे न उलझ कर कुछ इसके बारे मे बताते है ।

गोवा मे tiatr १०० साल से होता चला आ रहा है । tiatr के लिए कहा जाता है कि इसे बहुत अधिक loud होना चाहिए । इसकी सबसे बड़ी खासियत ये है कि इसमे जो भी कहानी होती है वो गोवा के लोगों की जिंदगी पर आधारित होती है वो चाहे राजनीतिहोयाफ़िरकोईसोशलमुद्दाहो , पुलिसहोयाचाहेआमआदमीकीजिंदगी।हर दर्शक कहानी से अपने आप को identify कर सकता है । इसमे सटायर भी खूब होता है ।और इसमे संदेश भी होता है । यहाँ के लोगों का कहना है कि ये आमनाटकों (ड्रामाऔरथिएटर) से थोड़ा अलगहै ।

हालाँकिअबइसtiatrमेहिंदूकलाकारभीभागलेनेलगेहैपर ऐसा कहते है कि शुरूआती दौर मे ज्यादातर कैथोलिक ही इसमे भाग लेते थे क्यूंकि इसमे saxtti (कोंकणी )भाषा का इस्तेमाल किया जाता है जिसे साउथ goa मे बोला जाता है और वहां कैथोलिक ज्यादा रहते है।

इस tiatr की एक और खासियत है वो ये कि इसमे 7act,1act5actहोताहै ।आम तौर पर…

गाँधी जयंती और ईद के मुबारक मौके पर

२अक्तूबरकेदिन२महानशख्सियतकाजन्महुआथामहात्मागांधीऔरलालबहादुरशास्त्रीजीका।गाँधीजीनेअहिंसाकातोशास्त्रीजीनेजयजवानजयकिसानकानारादिया।

औरइसबार२अक्तूबरकोईदकामुबारकदिनभीहैतोआपसभीकोईदमुबारक।
तोकुछगीतसुनलिएजाए ।



Powered by eSnips.com

कोयल और कौवे की अनोखी जुगलबंदी :)

हमारीयेपोस्टकुछ-कुछफुरसतिया जीसेप्रेरितहै। यहाँगोवामेचूँकिहरियालीबहुतहैऔरहमारेघरमेभीपेड़-पौधेबहुतहैतोयहाँपरकौवेऔरकोयलदोनोंहीबहुतदिखतेहै।वैसेआमतौरपरमानाजाताहैकिकोयलदिखाईनहीदेतीहैऔरवोछुपकरबोलतीहै।परयहाँपरकोयलअक्सरबोलतीहुईदिखाईदेजातीहै।आजसुबहजबकोयलऔरकौवेकीआवाजसुनीतोवीडियोबनायाऔरएकपोस्टकेरूपमेयेकुछअलगसीजुगलबंदीआपलोगोंकेलिएपेशहै ।

औरकौवेतोगोवामेइतनेअधिकहैकिअगरआपढलतीहुईशामकोकिसीपेड़केनीचेसेगुजरेतोसिरकाध्यानरखनापड़ताहैवरनाकौवेजीकाप्रसादमिलजाताहै। :)

यहाँतोहमरोजसुबह (करीबसाढ़ेआठसेनौकेबीचमे ) कौंवोंकोकुछनकुछखानेकोजरुरडालतेहैपहलेतो२-४कौवेआतेथेपरअबजैसेहीहमबालकनीमेजातेहैऔररोटीकेटुकड़ेडालनाशुरूकरतेहैकिहरतरफ़सेकौवेउड़-उड़करआजातेहैखानेकेलिए।

वैसेकौवोंकोखानादेनेकाएककारणऔरभीहैवोयेहैकिअगरहमउन्हेंखानानहीडालतेहैतोयेकौवेहमारेकैरीराम (doggi) केखानेपरहमलाबोलदेतेहै।परखानादेनेसेअबहरसमयतोनहीपरकभी-कभीकौवेकैरीकाखानाखातेहै।औरवैसेअब येकौवेइतनेनिडरहोगएहैकिअगरहमलोगबैठेरहतेहैतबभीवोआकरखानाखातेरहतेहै।

दिल्लीमेतोकौवाऔरकोयलज्यादादिखाईदेतेहीनहीहैकिउनकीकांव-कांवयाकुहू- कुहूसुनीजासके।

खैरगोवामेऐसीबहुतसीबातेंजोकभीबचपनमेसुनते-देखतेऔरम…