Monday, June 2, 2008

commissioning of sankalp

जब भी कोई नई ट्रेन और बस चलती है तो उसका बड़े ही जोर-शोर से लॉन्च होता है ऐसा हमने देखा और सुना हैआम तौरपर खूब सजी-धजी ट्रेन और बस को झंडा हिलाकर रवाना किया जाता हैपर शिप की लॉन्च मे ऐस कुछ नही होता हैयहां गोवा मे रहते हुए पहली बार किसी शिप के लॉन्च यानी commissioning को देखने का मौका हमे मिलाऔर यकीन जानिए ये अनुभव भी बहुत अच्छा रहा
जब इस शिप की commissioning के लिए हम गए थे तो हम सोच रहे थे की जैसे ट्रेन और बस को लॉन्च के बाद रवाना किया जाता है वैसे ही शिप को भी पानी मे sail कर दिया जायेगा और हम उस मंजर को अपने कैमरा मे कैद करने के लिए तैयार भी थे पर बाद मे वहां जाकर पता चला कि लॉन्च के बाद शिप को sail नही किया जाता है बस
ओफिशियली लॉन्च करना ही commissioning होती है (ये हमे किसी ने बताया नही है पर हमे ऐसा लगा ):)

तो इस नए शिप के बारे मे कुछ बातें बता देते है संकल्प भारतीय तट रक्षक सेना का एक शिप या पोत है और इसे गोवा के शिपयार्ड मे ही बनाया गया है२० मई को रक्षा मंत्री .के.एंटोनी ने इस शिप को commissioned किया यानी की आम लोगों की भाषा मे इसे लॉन्च किया commissioning अर्थात अब ये शिप पूरी तरह से तैयार है ये शिप १०५ मीटर लंबा और १२. मीटर चौडा हैवजन क्षमता २३०० टन है। बचाव और सुरक्षा के लिए इसमे एक हेलिकॉप्टर और ६ स्पीड बोट है। इसकी अधिकतम रफ़्तार २५ नॉट्स तक की है इस शिप को समुद्र मे घुसपैठ को रोकने के लिएइस्तेमाल किया जायेगा
तो पौने चार बजे हम लोग commissioning की जगह पर पहुँच गए और १० मिनट बाद ही रक्षा मंत्री गए और तट रक्षक बल के जवान जो वहां सफ़ेद वर्दी मे खड़े थे और जैसे ही रक्षा मंत्री आए पहले उन्होंने इन जवानों से सलामी ली और इनका निरीक्षण किया ।और लोगों से मिलते हुए शिप पर चले गए और उसके बाद - लोगों के भाषण हुए जैसे गोवा शिपयार्ड लिमिटेड के अध्यक्ष (m.d),महानिदेशक भारतीय तटरक्षक (d.g.)कमान अधिकारी (commanding officer)


और आख़िर मे .के.एंटोनी ने भी छोटा सा भाषण दियायहां जितने भी तट सेना से जुड़े लोगों ने भाषण दिया और उन सबके भाषण मे एक खास बात थी की उन सभी ने समुद्र देवता वरुण का आशीर्वाद भी माँगा और फ़िर रक्षा मंत्री को स्मृति चिन्ह भेंट किए गए

और उसके बाद औपचारिक तौर पर इस शिप की commissioning की गई जिसमे भारतीय ध्वज को फहराया गया और बैंड पर राष्ट्रीय गान बजाया गया उसके बाद रक्षा मंत्री ने इस शिप के नाम की पट्टी का अनावरण किया




इस शिप मे १० अफसर और ९४ तट रक्षक जवान रहेंगे commissioning के बाद इस शिप को मुम्बई जाना था और अब तक तो चला भी गया होगा

commissioning के बाद चाय-नाश्ता हुआ और जब चलने लगे तो हर किसी को एक बैग दिया गया जिसमे एक cap थीतो हमने चलते-चलते cap पहन ली और एक हष्ट -पुष्ट सी फोटो भी खिंचा ली। :)


8 Comments:

  1. DR.ANURAG ARYA said...
    फोटो दिखाकर आपने सब कुछ आंखो के सामने ला दिया....
    mahendra mishra said...
    बहुत बढ़िया चित्रण और जानकारी देने के लिए धन्यवाद
    बाल किशन said...
    वाह.
    तस्वीरों ने आपके लेख को और रोचक बना दिया है.
    जानकारी के शुक्रिया.
    Sanjeet Tripathi said...
    बहुत बढ़िया!
    शुक्रिया।
    Udan Tashtari said...
    रोचक जानकारी. चलिये, इसी बहाने शिप कमीशनिंग के विषय में पता चला. आभार.
    Gyandutt Pandey said...
    नयी बात पता चली। बहुत सुन्दर पोस्ट।
    Manish said...
    जानकारी देने के लिए धन्यवाद..

    और हाँ ये पोस्ट आपकी नज़रों से गुजरी या नहीं आपका जिक्र किया था इसलिए पूछा..
    http://travelwithmanish.blogspot.com/2008/06/blog-post.html
    Dr.Parveen Chopra said...
    बहुत बढि़या जानकारी दी है आपने और इतने बढ़िया चित्रों के साथ। अच्छा लगा।

Post a Comment