Wednesday, June 11, 2008

बिल्कुल ठीक पढ़ा है आपने पर क्या आपने कभी ढाई लाख का तरबूज देखा या सुना या खाया है। हमने तो इससे पहले तरबूज की इतनी बड़ी कीमत नही सुनी थी। इतने कीमती तरबूज को तो खाते हुए लगेगा कि तरबूज फल नही बल्कि अपना रुपया खा रहे है। :)

खैर ये तो रही हमारी बात तो चलिए आपको इस ढाई लाख के तरबूज के बारे मे भी कुछ बता दे। ये काले रंग का ८ किलो का Densuke watermelon माने तरबूज है।इसे जापान के उत्तरी द्वीप के hokkaido मे उगाया गया है। इसे जापान मे नीलामी के दौरान ६५०,००० येन मतलब ढाई लाख रूपये के आस-पास मे बेचा गया।

जापान मे तरबूज को लोग उपहार के तौर पर देते है ।अब अपने हिन्दोस्तान मे कोई तरबूज उपहार दे तो लोग उपहार देने वाले के सर पर ही तरबूज को फोड़ दे। :)
अरे आपको अभी भी हमारी बात पर यकीन नही आ रहा है तो इस लिंक को पढिये और इस काले तरबूज की फोटो देखिये और फ़िर बताइए कि क्या इससे पहले आपने ऐसा तरबूज देखा या सुना था। :)

15 Comments:

  1. सोनाली सिंह said...
    गज़ब की जानकारी , शुक्रिया जी!
    कुश एक खूबसूरत ख्याल said...
    ये तरबूज तो बड़ा अबूझ निकला..
    PD said...
    जी.. अभी जाते हैं..
    annapurna said...
    ठीक लिखा आपने अपने हिन्दुस्तान में तरबूज़ उपहार में दो तो लोग उपहार देने वाले के सर पर ही तरबूज़ फोड़ दे।

    यह पढते ही मुझे याद आ गया सत्ते पे सत्ता का सीन जहाँ हेमा मालिनी को अमिताभ बच्चन तरबूज उपहार में भेजते है और वो ऊपर से ही उसे फेंक देती है।

    शाय्द किसी जापानी ने यह फ़िल्म नहीं देखी।
    Gyandutt Pandey said...
    ढ़ाई लाख! क्या मंहगाई का जमाना आ गया है!! :)
    ajay kumar jha said...
    mamataa jee,
    saadar abhivaadan. ye dilchasp kahabar maine bhee padhee thee aur aapkee to nazar un par rahtee hee hai. achhha lagaa.
    रंजू ranju said...
    नही आप मुझे यह तरबूज उपहार के तौर पर देंगी तो मुझे हार्दिक खुशी होगी :) ..अच्छी जानकारी :) आप बुश जी को यह लिंक जरुर भेज दे
    mahashakti said...
    हा हा हा

    मजेदार बात बताई है
    mahashakti said...
    हा हा हा

    मजेदार बात बताई है
    mahashakti said...
    हा हा हा

    मजेदार बात बताई है
    Udan Tashtari said...
    मजेदार, रोचक समाचार.
    mehek said...
    :):) bahut hi acchi baat batayi,ye tarbuj kaha,ye to sona hai,ek dam mast
    Lavanyam - Antarman said...
    ममता जी, आपने हँसा ही दिया ;-))
    और अगर तरबूज लाखोँ का है तब उसे काटनेवाली छुरी कित्ते की होगी ?
    और वो मेड इन जापान की होगी या मेड इन चाइना की ? :)
    महामंत्री (तस्लीम ) said...
    आश्चर्यजनक किन्तु सत्य समाचार है। यदि यह फोटो आपने भी लगाया होता, तो ज्यादा अच्छा रहता।
    DR.ANURAG said...
    मजेदार, रोचक समाचार.

Post a Comment