Thursday, February 5, 2009

ओह हो कन्फुज मत होइए ये दोनों एक नही अलग-अलग गीत है जिन्हें लता मंगेशकर ने गाया है । लता मंगेशकर के अपने पसंदीदा गीतों की श्रंखला को आज थोड़ा और आगे बढाया है ।

इसमे जो आखिरी गीत मन डोले है ,उसे बरसात के दिनों मे या रात मे बजाने को मना किया जाता था क्योंकि ऐसा कहा जाता था कि इसमे बजने वाली बीन को सुनकर कहीं कोई नागिन या नाग न आ जाए । हालाँकि ऐसा कभी हुआ नही था । :)

Powered by eSnips.com

12 Comments:

  1. P.N. Subramanian said...
    सबसी अच्छी कठपुतली फ़िर अनपढ़. वैसे तो सभी गीत अच्छे हैं. नागिन के गीत के बारे में जो प्रचार किया गया है वह भ्रामक है. आभार.
    seema gupta said...
    " वैजन्ती माला पर फिल्माया गया ये गीत मुझे बेहद पसंद है ...बोल रे कठपुतली डोरी कौन संग बंधी...सच बतला तू नाचे किसके लिए....आभार"

    Regards
    सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...
    सुन्दर प्रस्तुति...।
    annapurna said...
    सभी गीत मेरे पसंदीदा है खासकर अनपढ का गीत जो बिन्दु पर फ़िल्माया गया है, हल्का सा अच्छा नृत्य है बिन्दु का, यह बिन्दु की पहली फ़िल्म है।

    और हाँ, ममता जी ! आपका निमोना तो हमारे परिवार में हिट हो गया। अभी तो मटर का जाता मौसम है, अगले मौसम में हम खूब बनाएगें, खूब खाएगें और आपको खूब याद करेंगे।
    विनय said...
    आनन्द आ गया
    रंजना [रंजू भाटिया] said...
    बढ़िया पसंद है आपकी ..शुक्रिया
    राज भाटिय़ा said...
    बहुत सुंदर.
    धन्यवाद
    KK Yadav said...
    Lajwab....!!
    लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...
    Aap bhee Lata didi ki Fan hain kya Mamta jee ?
    Hum to unki awaaz ke bahut bade Bhakt hain.
    Sunte hee jhoomne lagte hain.
    Thanx for these lovely songs.
    They are ever green hits !!
    Harshad Jangla said...
    Mamtaji
    Wonderful selection.
    These are evergreen songs of Didi.
    Thanx.

    -Harshad Jangla
    Atlanta, USA
    Tarun said...
    बहुत सुन्दर गीत हैं सभी
    mamta said...
    आप सभी का शुक्रिया ।
    annapurna जी आपके परिवार को निमोना पसंद आया ये जानकर बहुत खुशी हुई ।

    लावण्या जी पुराने गीतों की मिठास आज भी जैसी की तैसी है । और फ़िर लता जी के गानों की तो बात ही क्या ।

Post a Comment