रीटा आइस क्रीम

ये ice creem शब्द सुनकर ही बहुत कुछ याद जाता हैअब जैसे हमे rita ice cream की याद गई भाई हमने तो अपने बचपन मे ये आइस क्रीम बहुत खाई है। इलाहाबाद मे ये अब मिलती है या नही पता नही पर जब हम छोटे थे तब जहाँ शाम के ५ बजे नही कि एक आदमी छोटी सी हाथ गाड़ी जिस पर चारों और rita ice cream लिखा होता था आता rita ice cream की आवाज आती और झट से हम घर के बाहर. हम क्या मोहल्ले के जितने बच्चे सभी घर के बाहर निकल पड़ते थे. और चूँकि हम लोगों के मोहल्ले मे हर घर मे खूब सारे बच्चे थे और गर्मी की छुट्टियों मे तो हर किसी के घर मे ननिहाल या ददिहाल के लोग आए हुए होते थे अरे मतलब ज्यादा बच्चे ,तो ice-cream वाले की भी खूब बिक्री होती थी।

और हर किसी को सबसे पहले ice-cream चाहिए होती और हर कोई चिल्ला रहा होता कोई चिल्लाता orange तो कोई mango तो कोई chocolate bar। किसी को vanila का cup चाहिए होता था। और ice-cream वाला हम सभी को एक-एक करके अपनी ही धीमी स्पीड से ice-cream बांटता ।हमे तो orange ice-cream हमेशा से ही कुछ ज्यादा ही प्रिय रही है। हमारी और हमारी दीदी मे अलग-अलग तरह की शर्त लगती कि कौन ice-cream ज्यादा देर तक खा सकता है या कौन ice cream जल्दी खा सकता है

बाद मे दिल्ली मे बहुत साल तक एक quality ice creem वाला अपनी थोडी stylo गाड़ी लेकर आता था और तब हमारे बच्चे और हम सब मिलकर ice-creem खाते थे।

रीटा ice-cream की याद इसलिए आई क्यूंकि कल हमने अमूल की ice-cream खाई और उसमे कुछ-कुछ रीटा ice-cream जैसा taste लगा तो बस हमे रीटा ice-cream की याद आ गई।

नोट--इस बार इलाहाबाद जायेंगे तो अगर येrita ice-creem मिलती होगी तो जरुर खाएँगे और तब फोटो भी लगायेंगे। अरे ice-creem के ठेले की । :)

तो चलिए बचपन के इस गीत को देखिये और कुछ और पुरानी यादों मे खो जाइए।

Comments

yunus said…
बढि़या । भोपाल में जॉय आइसक्रीम होती है । :) उसकी याद आ गयी ।
मिलती है, बहना !
रीटा आइसक्रीम से तो मैं इलाहाबाद में प्रवेश करते ही
तेलियरगंज में दो चार होकर ही आगे बढ़ता हूँ ।
किंतु यदि बच्चे, जो अब बच्चे नहीं रहे, साथ होते हैं तो झुँझलाते हैं,
क्या पापा आपको और कोई ब्रांडेड आइसक्रीम नहीं मिली ?
आभा said…
सच्ची मुच्ची ममता क्या याद दिला दिया तुमने, इलाहाबाद जाने पर पहला काम रीटा आइसक्रीम खाने का होगा।
DR.ANURAG ARYA said…
ice cream khilayengi to comment karenge..
चलिए इलाहबाद कभी गए तो हम भी रीटा को खोज निकालेंगे !
Udan Tashtari said…
क्या याद दिलाया है! वाह, एकदम आँख के सामने घूम गया आईसक्रीम का ठेला.
सुरीला गीत सुनवाने के लिये, आपका आभार ममता जी !
" I Scream,
you scream,
we all scream
4 - " ICE CREAM " "
आपकी इस पोस्ट से बचपन की याद आ गयी।
दीपक भारतदीप
This comment has been removed by the author.

Popular posts from this blog

कार चलाना सीखा वो भी तीन दिन मे .....

क्या उल्लू के घर मे रहने से लक्ष्मी मिलती है ?

निक नेम्स ( nick names )