आ गई प्यारी सी छोटी सी nano ....

अब जैसा की टाटा ने वादा किया था हिन्दुस्तान की जनता को लखटकिया कार देने का तो वो इंतजार ख़त्म हुआ और टाटा ने तीन दिन पहले अपना वादा पूरा किया । मुंबई मे पूरे शान-ओ- शौकत से nano को लॉन्च किया गया । और इस कार के एक नही बल्कि ३ नए मॉडल लॉन्च किए गए है । और हर मॉडल का दाम और सुविधाएं (फीचर्स)अलग -अलग है ।

वैसे टाटा ने एक लाख की कार का वादा किया था पर सबसे कम दाम वाली कार एक लाख बारह हजार की है (मतलब लाख से ऊपर) जिसमे न तो ए.सी.है और न ही स्टीरियो है पर हाँ इन सबके लिए कार मे स्पेस दिया हुआ है जिससे अगर कार लेने वाला चाहे तो बाद मे अपनी सुविधा से ए.सी.और स्टीरियो लगवा सकता है ।

बाकी के दूसरे मॉडल जैसे CX और LX मे जहाँ दाम ज्यादा है वहीं इन मॉडल मे ए.सी और स्टीरियो के साथ ही साथ कुछ और नए फीचर्स भी है । कार के रंग से भी जैसे अगर मेटलिक है तो कार का दाम ज्यादा हो गया है । इसके अलावा हर शहर मे भी nano का दाम अलग है । और सबसे महँगी एक लाख पचासी हजार (१.८५ )की होगी ।

जितना कुछ nano के बारे मे पढ़ा और देखा है उससे लगता है ये nano काफ़ी हलकी-फुलकी कार है पर sturdy हो सकती है क्योंकि टाटा ने जो इसे बनाया है । और आम तौर पर टाटा की सभी गाडियाँ काफ़ी sturdy है । इस nano मे ४ लोग आराम से और ५ लोग जरा कम आराम से बैठ सकते है । :)

अब ये देखने मे इतनी छोटी और हलकी लग रही है जिसे देख कर लगता है कि अगर कहीं दिल्ली जैसे शहर मे इसे किसी ने ठोंक दिया तो क्या होगा ।

वैसे nano के लिए कहा जा रहा है इसने head on test और roof test माने अगर nano की छत पर कुछ भारी-भरकम गिर जाए तो भी nano उसे झेल सकने मे सक्षम है । अब एक्चुअल मे nano कितनी sturdy होगी ये तो बाद मे ही पता चलेगा ।इसके माइलेज के लिए कहा गया है कि एक लीटर मे २३ कि. मी .चलेगी । पर इसकी पेट्रोल की टंकी काफ़ी छोटी है सिर्फ़ १५ लिटर की कैपसिटी है । और सबसे गड़बड़ इसकी डिक्की बहुत ही छोटी सी है ।(ना के बराबर) पर भाई जब कार ही इतनी छोटी और हल्की (इसका kerb weight ६०० किलोग्राम है ) और इसका इंजन ६२४ ccc का है । पर हाँ इसकी head light देखने मे बड़ी सुंदर लग रही है । (eye shaped)

nano के आने से हर शहर मे ट्रैफिक तो जरुर बढेगा और parking का तो भगवान ही मालिक है ।जब आज के समय मे क्या दिल्ली क्या लखनऊ,और क्या गोवा ,किसी भी शहर मे शाम के समय बाजार या सिनेमा हॉल मे parking मिलना और कार पार्क करना इतना मुश्किल है ये तो हम आप सभी जानते है । पर nano के आने के बाद क्या होगा ?

वैसे nano की बुकिंग ९ अप्रैल से २५ अप्रैल के बीच होगी तो आप बुक करा रहे है या नही । हम तो सोच रहे है कि बुक करा ही ले । भई लखटकिया न सही डेढ़ लखटकिया ही सही । :)




Comments

mehek said…
dikhane mein badi dhasu hai car i mean achhi,jab road pe utaregi phir kamaal bhi dekh sun lenge:)
बुक करा ही लीजिए... हम बैठ भले न पाएं आपका रिव्यू तो जानेंगे.
Nirmla Kapila said…
mamtaji bhagvaan kare apka no. aa jaye magar iske liye hame bhi do char hichkole de deejiyega
आप नैनो बुक करा ही लीजिये , नैनो की असली समीझा तो उसके बाद ही हो पायेगी .
कुश said…
naino mein bas gayi hai nano... :)
Rachna Singh said…
Any automobile till it comes on road and test reports come in should not be booked just because its low price
sahi kaha..parking ka to bhagwaan malik hai!
nano hai to sundar!
tikaau bhi hogi hi..
अच्छा याद दिलाया। बुकिंग की सोचते हैं!
इस देश में सब अपना अपना नफ़ा-नुक्सान देखने से आगे की कहाँ व कब सोचते हैं भला?
पेट्रोल,सड़कें प्रदूषण,वाहन व्यवस्था ये सब सोचने के मुद्दे ही कहाँ हैं लोगों के लिए!
जबकि सार्चजनिक व व्यक्तिगत यातायात के नियम होने तो सिंगापुर की तरह चाहिएँ कि लोग सूधे हो जाएँ।
पहले १ लाख लोगों को केवल एकलाख में ही मिल जायेगा. बुक तो करा ही लीजिये.
अभी सड़क पर आने तो दीजिये ,तभी यथार्थ पता चलेगा .
neelam said…
kammal hai ,
sabhi ko traffic ki padi hai ,jara unke baare me bhi sochiye ,kaar jinke liye ek sapna hoti thi .unka sapna poora hoga ,traffic ki chinta mat kariye ,abhi bhi wo log scooter par hi chalenge .car to poore parivaar ke saath jane ke liye hi hogi .petrol ki bhi to samasya apni jagah hai ,

Popular posts from this blog

कार चलाना सीखा वो भी तीन दिन मे .....

क्या उल्लू के घर मे रहने से लक्ष्मी मिलती है ?

निक नेम्स ( nick names )