अब क्या होगा दादा ( सौरभ गांगुली )और चीयर लीडर्स का ....

इस साल मार्च मे जब से IPL के मैचों की घोषणा हुई है तब एक तरह का घमासान सा चल रहा है । पहले तो IPL की तारीखों के ले कर सरकार और B.C.C.i.और IPL के ललित मोदी के बीच खींच - तान चलती रही । क्योंकि देश मे लोक सभा चुनावों की घोषणा भी मार्च मे ही हुई और चुनाव देश के लिए ज्यादा महत्वपूर्ण है । ये तो सभी जानते है ।

और चूँकि अब चुनाव ५ फेज मे हो रहा है यानी १६ अप्रैल से १३ मई तक पोलिंग और १६ मई को counting यानी पूरा एक महीना । और IPL के मैच भी १० अप्रैल से शुरू होकर २४ मई तक होने थे । ऐसे मे जो तारीख ललित मोदी कहते उसमे गृह मंत्रालय राजी नही होता क्योंकि सुरक्षा की जरुरत चुनाव और IPL दोनों को है । अब ये दूसरी बात है कि मोदी और B.C.C.i.को शायद ऐसा नही लग रहा था ।और IPL होने पर इन लोगों को हजार करोड़ का नुक्सान उठाना पड़ता सो अलगवो भी आज के recession के समय मे

हालाँकि चुनावों के मद्दे-नजर कई बार मैच की तारीखें बदली गई पर हर बार गृह मंत्रालय जब राज्य सरकारोंसे सुरक्षा देने की बात पूछता तो राज्य सरकार जहाँ पर ये IPL मैच होने थे ,ने भी सुरक्षा देने से इनकार किया तो आख़िर मे ललित मोदी ने IPL को भारत के बाहर दक्षिण अफ्रीका मे करवाने का एलान किया । और अब १८ अप्रैल से मैच शुरू हो जायेंगे और मई तक चलेंगे ।

इस बार लगता है IPL और ललित मोदी के दिन कुछ ठीक नही चल रहे है । अभी कुछ दिन पहले ललित मोदी के ख़िलाफ़ एक scam की ख़बर भी आई थी और उसके कुछ दिन बाद ही ललित मोदी के राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन का चुनाव हारने की ख़बर भी आई ।

खैर , वैसे इस बार IPL की टीमों मे भी कुछ-कुछ गड़बड़ हो रही है । जैसे अब रॉयल चैलेंजर की टीम के कप्तान राहुल द्रविड़ नही बल्कि केविन पीटरसन होंगे । अभी तो एक ही कप्तान है पर कहीं नाईट राईडर्स टीम का असर न पड़ जाए । :)
क्योंकि कोलकता नाईट राईडर्स टीम मे इस बार एक नही दो नही बल्कि चार कप्तान होंगे ऐसा इस टीम के coach का कहना है । पर सौरभ दादा इस बात से ज्यादा खुश नही है ।

अब दादा को तो नाखुश होने की आदत सी हो गई है । माना कि अभी तक देश के वो सबसे सफल कप्तान रहे है पर धोनी की टीम इंडिया के जीतने पर भी वो खुश नही होते है । जैसे जब धोनी की टीम अपने देश मे जीतती है तो दादा कहते है कि विदेश मे जीत कर दिखाओ । और जब विदेश मे जीतती है तो कहते है कि टेस्ट मैच जीतकर दिखाओ । टेस्ट जीत जाए तो भी दादा ये मानने को तैयार नही कि इस समय जो टीम है वो बेस्ट टीम है बल्कि सौरभ का कहना है कि ये टीम best नही better है । खैर जाने दीजिये ।

और हाँ इस बार नाईट राईडर्स की ड्रेस भी बदली जा रही है । कैसी होगी वो तो १८ अप्रैल को पता चल ही जाएगा ।

IPL के देश के बाहर होने से हम ये सोच रहे है की कोलकता नाईट राईडर्स का NDTV IMAGINE पर चीयर लीडर्स ( जिन्हें ये लोग angel कह रहे है ) चुनने के लिए जो डांस शो हो रहा है उसमे दादा (सौरभ) और उनके साथ टीम का ही एक और क्रिकेटर और एक कोई फिल्मी हीरो या हेरोइन जज बन कर लड़कियों का डांस देख कर उन्हें select कर रहे थे जिससे की ये लड़कियां ग्राउंड मे मैच के दौरान खिलाड़ियों को चीयर करें और साथ ही साथ जनता को भी । पर अब जब IPL साउथ अफ्रीका चला गया है तो अब इन चीयर लीडर्स का क्या होगा ।

क्या शाह रुख इन चीयर लीडर्स को भी साउथ अफ्रीका ले जायेंगे टीम को चीयर करने के लिए ? :)

Comments

बहुत ही सुन्दर सर्वे. हम तो भाई इस आइ.पी.एल द्वारा पूर्ण व्यावसायिक तरीके से क्रिकेट खिलवाया जाना पसंद ही नहीं करते.यह तो w.w.f जैसा शो बन गया है.
कुश said…
देखते है चार चार कप्तानों वाली टीम क्या गुल खिलाती है
हमें क्या फरक पड़ता है। खेल कहीं भी हों, टीवी पर ही तो देखते हैं।
दादा की नाराजगी जायज है , जब कभी उन्हें किसी ने अच्छा कप्तान नहीं कहा तो वो कैसे कहे . देखते है दादा और उनके साथी कप्तान क्या गुल खिलाते है .
दादागीरी तो ख़तम हो गई. अब चीयरलीडर्स का चुनाव करें. जजबाज़ी करें. मैं तो कहता हूँ कि अभी भी समय है, राजनीति में चले जाएँ. बहुत सहानुभूति मिल रही है. चुनाव जीतकर संसद में पहुंचें. क्या रखा है आई पी एल में?
क्रिकेट मुझे बिलकुल भी पसंद नही, ओर ना ही इसे हम देखते है, लेकिन जब पाकिस्तान से मुकाबला हो तो जरुर देखते है, ओर मजा भी आता है.
धन्यवाद

Popular posts from this blog

कार चलाना सीखा वो भी तीन दिन मे .....

क्या उल्लू के घर मे रहने से लक्ष्मी मिलती है ?

निक नेम्स ( nick names )