हो गई ओलम्पिक मशाल की दौड़

ओलम्पिक मशाल और तिब्बतियों के विरोध के बीच मे ओलम्पिक मशाल का भारत मे आना और सही सलामत ओलम्पिक दौड़ का आयोजन हो जाना भारत सरकार इसे एक बड़ी उपलब्धि के तौर पर मान रही हैपर क्या वाकई ये ओलम्पिक दौड़ का आयोजन सफ़ल रहा है अब ये तो जानकार लोग ही बता पायेंगे ओलम्पिक मशाल की दौड़ के बराबर ही तिब्बतियों ने भी एक मशाल रैली निकाली थी

कल जिस दौड़ को दोपहर एक बजे शुरू होना था वो शाम को बजे शुरू हुई और उसपर भी इतनी सुरक्षा जितनी तो शायद देश के प्रधान मंत्री या राष्ट्रपति की भी नही होती तकरीबन १७००० सुरक्षा कर्मी लगाए गए थेखैर मशाल की दौड़ जब शुरू हुई और जो देखने को मिला उसमें ना तो खेल भावना दिखी और ना ही लोगों या जनता मे इस ओलम्पिक मशाल की दौड़ को देखने के लिए कोई उत्साह दिखावैसे लोगों मे अगर उत्साह होता भी तो बेचारे सिर्फ़ सुरक्षा कर्मी को ही देख पाते क्यूंकि मशाल को देख पाना तो नामुमकिन ही थातीन तरह का सुरक्षा घेरा था लाल और काले रंग के कपड़े मे सुरक्षा कर्मी तो सफ़ेद और नीले रंग के कपडों मे चीनी और बिल्कुल सफ़ेद कपडों मे तीसरे घेरे के रूप मे भी सुरक्षा कर्मी तीन-तीन सुरक्षा घेरे और उस पर चीनी (chinese ) लोग तो किसी को मशाल के आस-पास भी फटकने नही देते
कितने गर्व की बात है जिस तरह से चीनी लोग मशाल लेकर दौड़ने वालों को instruction दे रहे थे कि किस तरह से मशाल को जलाना है और किस तरह से मशाल को पकड़ कर दौड़ना है और कैसे सीधी लाइन मे दौड़ना हैजब भी कोई मशाल लेकर दौड़ता था तो वो अपने हाथ हिलाते हुए (wave करते हुए )दौड़ता था पर उन लोगों को चीयर करने वाला कोई नही थापूरी दौड़ के दौरान चीनी लोग धावक के साथ-साथ ही दौड़ते रहे

ओलम्पिक मशाल की दौड़ के दौरान ज्यादा फोकस इस बात पर था की इसमे सैफ और आमिर खान दौड़ रहें हैयूं तो सारे न्यूज़ चैनल इस दौड़ को दिखा रहे थे पर ज्यादातर खिलाडियों के नाम चैनल वालों को पता नही थेकुछ के ही नाम वो बताते थे बाकि सारा ध्यान उनका फिल्मी हस्तियों पर थासभी चैनल कह रहे थे कि किसी भी क्रिकेट खिलाडी ने इस दौड़ मे भाग नही लिया पर बिशन सिंह बेदी को भी दौड़ते हुए दिखाया गया था पर न्यूज़ वालों को सैफ,आमिर,और संगीता (चक दे )ही दिखाई दे रहे थे. सबसे ज्यादा दूरी आमिर खान ने तय की भाई आख़िर वो सबसे बड़े अभिनेता और सबसे बड़े सोशल एक्टिविस्ट है ना

और आख़िर मे जहाँ पेस और भूपति को मशाल को लेकर दौड़ना था वहां कन्फ्युजुन हो गया था चीनियों को देख कर लग रहा था की वो लोग शायद पेस और भूपति को दौड़ने की नही देंगेपर खैर - मिनट मे ही उन चीनियों ने पेस और भूपति को दौड़ने की परमीशन दे दी और वो कहते है ना की अंत भला तो सब भला तो पेस और भूपति की जोड़ी ने ओलम्पिक ज्योति इस दौड़ का समापन किया







Comments

अतुल said…
बिल्कुल सफ़ल नही रही. बदूकों के साए में निकली मशाल. लानत है भारत सरकार पर और चीनी तानाशाहों पर.
mahendra mishra said…
ओलम्पिक की मशाल दौड़ और तिब्बतियो की शान्ति दौड़ शान्ति से निपट गई . अपने देश मे सिवा फोकस के और क्या है .
Gyandutt Pandey said…
चलिये जी सांस लें - सम्पन्न हो गयी। ऐसे ही ओलम्पिक भी सम्पन्न हो जायेंगे।
DR.ANURAG ARYA said…
वैसे भी हमे हैरानी हुई कि आमिर खान कल मना कर रहे थे आज फ़िर दौड़ लिए......
ममता जी आप का लेख पढ कर मुझे एक फ़िल्म आखें याद आ गई(पुराने वाली ) जिस मे धर्मेन्द्र, ओर माला सिन्हा थी,एक सीन मे चीनी फ़ोजी का हेड आता हे ओर सभी सिर झुका कर खडे हो जाते हे,वेसा ही सीन शयाद मसाल की दोड्मे होगा.धन्यवाद हमे भी विचारो मे दोडाने के लिये

Popular posts from this blog

कार चलाना सीखा वो भी तीन दिन मे .....

क्या उल्लू के घर मे रहने से लक्ष्मी मिलती है ?

निक नेम्स ( nick names )