बेटियाँ आशीर्वाद या अभिशाप (१)

इधर कई दिनों से हम यही सोच रहे है की बेटी होना आशीर्वाद है या अभिशापअक्सर हम ऐसी बातें पढ़ते और सुनते है जहाँ बेटी का होना अभिशाप माना जाता हैये आज से नही सदियों से चला रहा हैपुराने जमाने मे ज्यादा पीछे नही जाते है पर ५० साल पहले भी बेटियों के पैदा होने पर घरों मे ख़ुशी कम औए मातम ज्यादा मनाया जाता थाहर घर मे बेटे की चाहत होती क्यूंकि बडे-बुजर्गों का मानना था कि वंश तो बेटे से ही चलता है और बेटियाँ तो पराया धन होती है

हमेशा से बेटी के जन्म पर शोक मनाया जाता रहा है जबकि बेटी के पैदा होने पर हमेशा ही ये भी कहा जाता है कि लक्ष्मी आई हैपर बेटे के पैदा होने पर जश्न मनाया जाता हैऔर बेटे को हमेशा घी का लड्डू माना जाता रहा हैक्यों ये तो सभी जानते हैऐसा पहले सुनते थे कि राजस्थान मे बेटी पैदा होने पर मार दी जाती थीपर अब तो राजस्थान क्या सारे देश मे ही बेटियों की बड़ी ही निर्ममता से हत्या कर दी जाती हैकुछ की पैदा होने पर और कुछ की पैदा होने के पहले ही यानी गर्भ मे ही

पर क्या आज समय बदला है या वही घिसी-पिटी परंपरा चली रही हैकुछ तो बदलाव आया है पर अभी भी लोगों की बेटियों के प्रति धारणा पूरी तरह से बदलने मे बहुत वक्त लगेगाऔर इस बदलाव का एक बहुत ही अच्छा उदाहरण है अविनाश जी का बेटियों का ब्लॉग

अभी हाल ही मे अविनाश जी ने बेटियों का ब्लॉग बनाया है जहाँ लोग अपने-अपने अनुभव बाँटते हैजिनमे ज्यादातर सुखद अनुभव ही होते हैजो की एक सुखद शुरुआत हैइस ब्लॉग पर लोगों के अनुभव पढ़कर लगता है कि बेटी होना कोई गुनाह नही है

पर साथ ही इस बात से भी इनकार नही किया जा सकता कि आज भी लोग बेटी की हत्या करने मे जरा भी संकोच नही करते हैये सिर्फ इंसान की सोच है ऐसे लाखों उदाहरण देखने को मिल जायेंगेऔर शायद इसी वजह से आज अपने ही देश के कुछ राज्यों मे लड़कियां कम और लडके ज्यादा हो गए है

आख़िर बेटी को क्यों पैदा होने नही देना है ?

अगर बेटियाँ नही होंगी तो क्या ये सृष्टि का अपमान नही होगा

आख़िर हम कब बदलेंगे ?

हम चार बेटियाँ है अपने मम्मी-पापा की और हमें गर्व है कि हम बेटी है

हाँ और एक बात हम अंत मे कहना चाहेंगे कि यहां हमारा मकसद बेटों को नालायक घोषित करना नही है क्यूंकि हमारे भी दो बेटे हैपर बेटी और बेटे मे अंतर करना कहीं से भी तर्क संगत नही है

Comments

बेटियां आशीर्वाद हैं। जो इंसान बेटियों को अभिशाप समझने की गलती करता है उससे मूर्ख कोई हो ही नहीं सकता। उसकी सोच और बेवकूफी पर तरस ही खाया जा सकता है और कुछ नहीं किया जा सकता।
बेटियां ही तो "घर" हैं।
सही प्रश्न पूछ रहीँ हैँ आप ममता जी -
स- स्नेह,
--लावण्या
Gyandutt Pandey said…
बेटियां निश्चय ही आशिर्वाद हैं। यह तो भारतीय मानस है जो अभिशप्त है।
Parul said…
Mamtaa jii betiyon bin sab suun...ye aap se aur mujhsey zyaada kaun samjhegaa....hum betey vaaley hain na
रचना said…
hi mamta
if we stop thjinking about daughters as curse or boons and start accepting them as child/baby/human none os would be in any delimma . besides that its important to teach our daughters that they are born equals so that when these daughters become mothers they treat their daughters as equals . also its needed to give same importance and teachings ot son that we give to daughters
Heena Insan said…
बेटो से वंश चलने की बात कहने वाले समाज में नयी सोच जागृत करने के उद्देश्य से डेरा सच्चा सौदा के पूज्य गुरु संत गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सा ने बेटियों से वंश चलाने की एक नयी मुहीम का आगाज किया है और इस रीत को ''कुल का क्राउन'' का नाम दिया है । dailymajlis.blogspot.in/2013/01/kulkacrown.html

Popular posts from this blog

कार चलाना सीखा वो भी तीन दिन मे .....

क्या उल्लू के घर मे रहने से लक्ष्मी मिलती है ?

निक नेम्स ( nick names )