Thursday, January 10, 2008

बेनजीर भुट्टो की मौत के बाद पाकिस्तान मे पी.पी.पी. की कमान कौन संभाले पहले तो ये ही निश्चित नही हो पा रहा था। खैर बेनजीर के बेटे बिलावल जरदारी जो कि मात्र उनीस साल के है मतलब अभी बालिग नही हुए है पर उन्हें पी.पी.पी.का अध्यक्ष बना दिया गया है। अध्यक्ष बनने के पहले बिलावल अपने नाम मे भुट्टो नही लगते थे पर अध्यक्ष बनने के बाद से वो अब अपना नाम बिलावल भुट्टो जरदारी लिखने लगे है ।


अभी हाल ही मे जरदारी ने अपने एक interview मे कहा है कि वो सोनिया गांधी से बहुत प्रभावित है और सोनिया गांधी की तरह ही जरदारी भी अपनी पार्टी को अपना समर्थन और सहयोग देते रहेंगे।मतलब त्याग और बलिदान :)। और अपनी पार्टी के लिए ही वो काम करेंगे पर वो किसी भी पद पर नही रहेंगे।चलिए बाक़ी का interview आप यहां पर क्लिक करके पढ़ सकते है।


अब जरदारी सोनिया जैसा बन पाते है या नही या पाकिस्तान मे उन्हें वैसा ही सहयोग मिलेगा जैसा भारत की जनता और नेता सोनिया गांधी को देते है।ये तो समय ही बतायेगा ।

आपको क्या लगता है ?

5 Comments:

  1. Shiv Kumar Mishra said...
    सहयोग नहीं मिलने पर सोनिया जी से सलाह मांग सकते हैं.....:-)
    Gyandutt Pandey said...
    पाकिस्तान की राजनैतिक केमिस्ट्री भारत से शायद कुछ फर्क है। पर आप सही हैं - समय बतायेगा यह।
    राज भाटिय़ा said...
    एक पहला काम तो मियानो के नक्शे कदम पर किया..बिलावल जरदारी की जगह बिलावल *भुट्टो* जरदारी रख लिया, हमारी सोनिया गांधी जी तरह से,फ़िर पद की कया जरुरत जब सभी पद बाले जी जी ही ही कर के दूम हिलाते हो
    Raviratlami said...
    ममता जी, आपको सृजन-सम्मान के ब्लॉग-पुरस्कार हेतु बधाईयाँ. समाचार यहाँदेखें-
    http://srijansamman.blogspot.com/2008/01/2007.html

    साथ ही, पुरस्कारों के औपचारिक निमंत्रण व अन्य जानकारियों हेतु श्री जयप्रकाश मानस से उनके ईमेल पते srijan2samman@gmail.com पर शीघ्र संपर्क करें
    Sanjeet Tripathi said...
    बधाई ममता जी!
    शुभकामनाएं

Post a Comment