सेल ही सेल की बहार

आजकल तो हर बाज़ार और दुकान में सेल का बोर्ड दिखाई दे रहा है । वैसे भी जुलाई और फ़रवरी के महीनों में सेल लगती ही थी या दिवाली के समय सेल लगती थी । पर आजकल तो तो हर तीज त्योहार पर सेल लगना लाज़मी है । ऑनलाइन शॉपिंग में तो हमेशा ही सेल लगी रहती है चाहे मिनतरा हो या अमेजॉन हो या जबॉंग हो,फिलपकारट हो , हर तरफ़ सेल ही सेल । वैसे ऑनलाइन में तो किसी ना किसी रूप में सारे साल सेल लगी रहती है ।

कल हम वसंत कुंज मॉल गये थे वहाँ तो हर शॉप पर सेल का बड़ा सा बोर्ड लगा है । ज़्यादातर जगह अपटू ५०% छूट तो कहीं कहीं ७०% तक की छूट के बोर्ड लगे हुये है । और हर शॉप पर खूब भीड़ फिर वो चाहे ओनली हो या एच एंड एम हो या लाइफ़स्टाइल हो या ज़ारा हो या कोई और हो ।

ना केवल कपड़े , जूते, पर्स पर बल्कि इलेक्ट्रॉनिक सामानों पर भी ज़बरदस्त सेल लगती है । और अब तो ज्वैलरी में भी जैसे तनिष्क ,कल्यान ज्वैलरस भी कुछ ना कुछ ऑफ़र देते रहते है ।

सेल के दौरान दोपहर में मतलब दो-तीन बजे तक तो थोड़ी कम भीड़ भांड होती है पर जैसे जैसे शाम होने लगती है वैसे वैसे लोगों का मेला सा लग जाता है । दोपहर के समय तो कपड़े देखना और ट्राई करना आसान है पर शाम को तो ट्रायल रूम के बाहर एक लम्बी लाइन लगती है और कम से कम पंद्रह मिनट या उससे ज़्यादा का समय लग जाता है । 😏

और यही नहीं बाद में बिलिंग में भी अच्छी खासी लाइन होती है । यहाँ भी पंद्रह मिनट तो कम से कम लग ही जाते है । वैसे सेल के समय दुकानों पर उमड़ी भीड़ को देखकर ऐसा लगता है मानो सब कुछ बिलकुल मुफ़्त में मिल रहा हो , लूट सी मची रहती है । एक तरह से होता भी है क्योंकि जब तीन हज़ार का सामान पंद्रह सौ में मिले तो ऐसा ही लगता है ।

हमने भी इस सेल रूपी लूट की गंगा में हाथ धोये है । 😀

अरे तो सोच क्या रहे है जाइये सेल का मजा़ उठाइये और शॉपिंग करिये ।




Comments

Popular posts from this blog

क्या उल्लू के घर मे रहने से लक्ष्मी मिलती है ?

निक नेम्स ( nick names )

क्या सांप की आँख मे मारने वाले की तस्वीर उतर जाती है ?(एक और डरावनी पोस्ट )