गूगल बाबा की जय

अब गूगल बाबा को कौन नहीं जानता है। जब से आये है तब से छा गये है । कुछ भी जानना हो या कुछ भी ढूँढना हो बस गूगल पर सवाल लिखो या पूछो और पलो या यूँ कहे सेकेण्डस में जवाब मिल जाता है।

पहले ज्ञानवर्धक जानकारी के लिये लोग ब्रिटानिका इनसाकलोपीडिया मँगाते और पढ़ते थे पूरी २४ बड़ी बड़ी किताबें (वॉलयूम ) होती थी और हर एक किताब में उस विषय से सम्बन्धित बातें बाक़ायदा फ़ोटो के साथ पूरे विस्तार से लिखी होती थी ।और जिसे पढ़ने और देखने में बहुत मज़ा आता था ।पर अब विकीपीडिया है जहाँ से हर तरह की जानकारी हमें मिल जाती है। और इसमें जानकारी को लोग अपडेट भी करते रहते है।

दिल्ली में तो आइशर मैप नाम की एक किताब होती थी जिसमे दिल्ली की हर सड़क ,स्कूल ,कॉलोनी ,अस्पताल और कॉलेज का नक़्शा होता था और अगर कोई नई जगह जा रहे होते थे तो उस किताब को साथ लेकर जाते थे और उसमें दिखाये गये नक़्शे के हिसाब से जाते थे । पर अब फोन के गूगल मैप में जगह का नाम डालने पर गूगल ना केवल वहां का रास्ता बल्कि वहां पहुँचने में कितना समय लगेगा या कैसा ट्रैफ़िक है और कितने कि.मी. की दूरी है ये भी बता देता है। 🙂

अब गूगल के आने के बाद से ना तो इनसाइकलोपीडिया और ना ही आइशर मैप की ज़रूरत रहती है। क्योंकि अब गूगल के बाद सब कुछ इतना सरल जो हो गया है। किस शहर या देश में कैसा मौसम है या किसी भी फोन या फ्रिज या कोई भी प्रोडक्ट के बारे में जैसे उस प्रोडक्ट का दाम ,लोगों की उसके बारे में राय ,और दूसरे अन्य प्रोडक्ट से उसकी तुलना ( कमपैरिजन ) । किसी भी दवाई का नाम लिखने पर उसके बारे में विस्तृत जानकारी मिल जाती है ।

हम तो अकसर गूगल से सवाल करते रहते है मसलन अगर मोबाइल या कम्प्यूटर में कोई समस्या आ जाती है जैसे कोई फ़ोटो खो गई हो तो गूगल से पूछने पर ना सिर्फ़ एक बल्कि कई जवाब मिल जाते है और ये भी पता चलता है कि सिर्फ़ हम ही नहीं और लोगों को भी इस तरह की समस्या आती है। 😋

वैसे बहुत सारे टी.वी. चैनल खाना बनाने और सिखाने वाले शो दिखाते है पर कभी कभी समय ना होने के कारण उन्हें देख नहीं पाते है पर गूगल बाबा के रहते कोई चिन्ता की बात नहीं है। अब कोई भी खाना बनाना हो फिर वो चाहे इंडियन खाना हो या फिर चाइनीज़ ,मैक्सिकन, थाई, इटैलियन ,या चाहे मिठाई बनाना हो या कोई और तरह का खाना हो बस खाने की डिश का नाम लिखो और ढेरों ऑक्शन निकल आते है और अपनी सहूलियत और मर्ज़ी के मुताबिक़ वाली रेसिपी चुन कर बना सकते है। ये हम अपने अनुभव के आधार पर कह रहे है। 😃

पार्टी या किटटी पार्टी के लिए जगह तलाश करने या रेस्टोरेंट में जाने के लिए अब किसी से कुछ पूछने की ज़रूरत नहीं है । गूगल में शहर और एरिया का नाम डालने पर फ़टाक से उस एरिया के सारे रेस्टोरेंट ,उनका मैन्यू ,और अगर कोई ख़ास ऑफ़र होता है तो वो भी दिखा देता है। और हम अपनी ज़रूरत के हिसाब से रेस्टोरेंट चुन सकते है ।


सच कई बार सोच में पड़ जाते है कि गूगल के बिना कैसे हम लोगों का काम चलता था । सिर्फ़ इतने ही नहीं अनगिनत फ़ायदे है गूगल के तो बोलो गूगल बाबा की जय । 🙏





Comments

Popular posts from this blog

क्या उल्लू के घर मे रहने से लक्ष्मी मिलती है ?

निक नेम्स ( nick names )

क्या सांप की आँख मे मारने वाले की तस्वीर उतर जाती है ?(एक और डरावनी पोस्ट )