Friday, September 26, 2008

आजकल ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीम भारत मे टेस्ट मैच खेलने के लिए आई हुई है और सबसे अजीब बात ये है की ऑस्ट्रेलिया की टीम के असिस्टेंट कोच और कोई नही गुरु ग्रेग ही है । गुरु ग्रेग ने टीम इंडिया का जो हाल किया था उससे तो हम सभी वाकिफ है पर इस बार ऑस्ट्रेलिया की टीम के साथ गुरु ग्रेग को देख कर बड़ा ही अजीब लगा और हमारी भारतीय संस्कृति भी कितनी दिलदार है कि जिस ग्रेग ने टीम इंडिया का बेडा गर्क किया उसी का तिलक लगा कर स्वागत कर रहे है । यूँ तो आई.पी.एल.के दौरान भी गुरु ग्रेग दिखाई दिए थेपर इस बार की बात कुछ अलग है

वैसे एक बात है जब भी ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीम भारत दौरे पर आती है वहां का मीडिया कभी टीम इंडिया के खिलाडी तो कभी सेलेक्शन तो कभी सेलेक्टर्स को लेकर काफ़ी कुछ लिखना शुरू कर देता है।कुछ -कुछ divide and rule वाले formule पर आधारित । जैसे आज ही अखबार मे ख़बर छपी है कि कुंबले को धोनी को टेस्ट की कप्तानी सौंप देनी चाहिए ।क्यूंकि धोनी हर तरह के खेल की जिम्मेदारी उठाने मे सक्षम है ।अरे अभी तो टेस्ट मैच शुरू भी नही हुआ और उन लोगों ने अपनी पारी खेलनी शुरू भी कर दी। तो कभी तेंदुलकर और सौरव को लेकर की वो कितने महान खिलाडी है और अभी उन्हें और कितने सालों तक खेलना चाहिए वगैरा-वगैरा ।अरे भाई अपने देश और खिलाड़ियों की सोचो काहे को टीम इंडिया के पीछे पड़े रहते हो ।

अब गुरु ग्रेग ऑस्ट्रेलिया की टीम को टीम इंडिया की कमजोरियों से कितना फायदा करवाते है ये देखना है क्यूंकि गुरु ग्रेग को टीम इंडिया की वीकनेस और स्ट्रेंथ दोनों के बारे मे काफ़ी जानकारी तो होगी ही । अब तो अपनी टीम इंडिया को इस ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीम को हराकर गुरु ग्रेग को करारा जवाब देना चाहिए ।

7 Comments:

  1. निरन्तर - महेंद्र मिश्रा said...
    गुरु ग्रेग ने जिस तरह से इंडिया की लुटिया डूबा दी थी इसी तरह वे आस्ट्रेलिया की भी लुटिया डूबने में कोई कसर नही रखेंगे.
    रंजन said...
    ग्रेग बहुत चालाक है... हमारी अंदर की बात ले गये... और हमें आपस में लड़वा गये.. अब अपने वतन की सेवा करने में लगे है...
    और हम मासुमों की तरह उनकी खातिरदारी में लगे हैं...

    वाह..
    अभिषेक ओझा said...
    क्रिकेट से दूरी बढती जा रही है... ! चलिए ये एक अच्छी बात पता चली.
    Gyandutt Pandey said...
    आपकी पोस्ट से यह पता चला। अन्यथा खेल जगत की खबरों से तो कटते जा रहे हैं, उत्तरोत्तर। :-(
    राज भाटिय़ा said...
    भारत मे बेब्कुफ़ो की कमी नही यह बात इस गुरु ग्रेग को पता हे, वरना किस मुह से वह आता ओर तिलक भी लगबाता, आगे आगे देखिये इस की पुजा भी करेगे हम.
    धन्यवाद
    अर्शिया अली said...
    सही कहा आपने। टीम इंडिया को आस्‍ट्रेलिया को हराकर इसका सही जवाब देना चाहिए।
    rakhshanda said...
    वाकई अब क्रिकेट देखने को दिल नही चाहता...वैसे भारत को इस से सबक लेते हुए...विदेशी कोच नही रखना चाहिए...अब ग्रेग ज़ाहिर है भारत की कमजोरियों से वाकिफ होंगे...

Post a Comment