Saturday, January 3, 2009


आप किस सोच मे पड़ गए कि भला टाई पहनने का भी कोई नया style हो सकता है क्या । तो भाई आजकल तो जो न हो जाए वो थोड़ा है । वैसे इस ishtyle को देखने से पहले तो हम भी यही समझते और जानते थे कि टाई पहनने का सिर्फ एक ही style है जिसे हमने और आपने अपने घर के लोगों को जैसे बाबा,पापा,भइया ,चाचा मामा,और पतिदेव को टाई बांधते देखा है ।

पर आजकल जैसा कि हर रोज एक नया फैशन देखने को मिल रहा है तो भला टाई बाँधने वाले कैसे पीछे रहते सो आप भी देखिये ये नया टाई बाँधने का ishtyle और पसंद आए तो आजमा के भी देख सकते है । :)

ये इंडियन आइडल के प्रस्तुत करने वाले चैंग और हुसैन है और साथ ही एक प्रतियोगी रेमो भी है और ये अनोखा टाई बाँधने का ishtyle इन्ही का है । तो आप का क्या ख़्याल है इस नए ishtyle के बारे मे । :)

13 Comments:

  1. विनय said...
    मन माफ़िक करने का और क्या, इस्टायल वही जो अपुन करे। अरे सब ठीक है वह फेमस हैं और पैसे वाले सब चलता है
    सुरेन्द्र Verma said...
    Jo chalan mein aa jaye wahi style hai. Aaj-kal Ladkiya bhi naye-naye style nikalne lagi hai jara unke bare mein bhi apni kalam se likh dale to achchha lagega. waise lekh pathniye hai, dhyanaakshak hai aur prashanshniye hai.
    महेंद्र मिश्रा said...
    स्टाइल तो फोटो में दिख नही रही है सामने तो टाई दिख नही रही है ..... ममता जी तो क्या कहे. .....टाई क्या आगे की जगह पीछे की और चुटिया टाइप कर लेते है समझ में नही आ रहा है ....
    लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...
    ममता जी,
    ये स्टाईल देखा था यहाँ -
    ज्ञान भाई साहब से भी पूछिये, उन्होँने कई साल हुए,
    टाई बाँधी ही नहीँ :)

    नव वर्ष मेँ अनेकोँ शुभकामनाएँ तथा आपकी लेखनी यूँही चलती रहे यह शुभकामना
    बहुत स्न्हे सहित,

    - लावण्या
    Dr. Vijay Tiwari "Kislay" said...
    सुंदर कटाक्ष के लिए बधाई
    - विजय
    "अर्श" said...
    अगर सही पहनता तो आप और हम चर्चा कैसे करते जनाब यही तो वो लोग चाहते है किसी भी तरह से चर्चे में रहना ......

    अर्श
    Tarun said...
    India gaye me idol dekha to dekhi thi ye dheeli ishtyle ;)
    रंजना [रंजू भाटिया] said...
    इंडियन आइडल में ही दिखा था यह :)नववर्ष की बधाई आपको
    P.N. Subramanian said...
    हर बेवकूफी आजकल इश् टाइल ही तो है. आभार.
    विवेक सिंह said...
    बस समथिंग डिफरेण्ट होना चाहिए और क्या ! अब ये भी जरूरी नहीं की घिसे पिटे स्टाइल्स को ढोया जाए :)
    राज भाटिय़ा said...
    देख तेरे इंसान की हालात क्या हो गई भगवान सारे उलटे इस के काम.
    ममता जी धन्यवाद
    Gyan Dutt Pandey said...
    हम तो एक गिफ्ट देने वाले की इंतजार में हैं जो हमे टाई भेंट कर दे!
    Irshad said...
    acchi nazar hae. aur barik soch hae. kuch aur bhi batae. bahut bahut subkamnao kae sath.
    irshad

Post a Comment