Sunday, April 12, 2009

पिछले काफ़ी समय से हमारे यहाँ इन्टरनेट की समस्या आ रही थी पर फ़िर भी हम किसी तरह काम चला रहे थे पर पिछले संडे से नेट जो बिगडा तो आज ठीक हुआ है ।मतलब पूरे एक हफ्ते के बाद आज नेट चला है । अब ये संडे के कारण है या .... :)

bsnl वालों को रोज फ़ोन कर-करके हम तो तंग ही आ गए । असल मे bsnl की helpline पर जब भी complaint करते थे तो वो लोग हमेशा कहते की अड़तालीस घंटे मे ठीक हो जायेगा पर ठीक हो नही रहा था । कल शाम को जब फ़िर फ़ोन किया तो पता चला की helpline के जिस नम्बर पर हम कॉल करते है वो यहाँ का नही बल्कि pune का है ।

और फ़िर हमें समझ मे आया की जब भी हम फ़ोन मिलाते है तो हमेशा bsnl गोवा -महाराष्ट्र मे आपका स्वागत है क्यों बोलते है । अब कल pune वाले ने कहा की आप गोवा मे जो भी nearest bsnl ऑफिस है उससे बात कीजिये ।

पर खैर फिलहाल आज तो नेट चल रहा है देखें कल क्या होता है ।

चलिए लगे हाथ ये भी बता दे की गोवा की १९७ सर्विस जिसकी जरुरत अभी हाल ही मे पड़ी थी और वो भी pune से ही मैनेज होती है इसलिए कभी-कभी गोवा मे किसी का नम्बर पूछने पर उन्हें समझ ही नही आता है ।

21 Comments:

  1. नदीम अख़्तर said...
    ममता जी
    बीएसएनएल एक महान चोर कम्पनी है। इस कंपनी ने देश भर के ग्राहकों को बहुत ही चालाकी स‌े लूटा है। मैं आपकी पीड़ा स‌मझ स‌कता हूं। आपको बता दूं कि मैं झारखंड में रहता हूं, रांची में। मैंने अपने यहां ब्रॉडबैंड का कनेक्शन लगवाया था। बीएसएनएल ने कपटपूर्ण तरीके स‌े ऎसा भ्रामक प्रचार किया था कि मैं 250 के प्लान को लेकर स‌ोच रहा था कि इस‌में तो फिक्स्ड है, हर महीने 250 रुपया ही आयेगा। लेकिन, जानते हैं पहले तो इस चोर कंपनी ने 8 महीने तक बिल ही नहीं भेजा और जब भेजा, तो दस हजार स‌े पार का। अब आप ही बताइये कि ये बिल बढ़ कैसे गया। अपील किया, तो दो स‌ाल तक दौड़ाते रहा अधिकारी लोग और दो स‌ाल के बाद अपील खारिज कर दिया। फिर मुझे पूरा पैसा पे करना पड़ा। इस दौरान इंटरनेट यूज़ भी नहीं किया, क्योंकि इन्होंने फोन लाइन ही काट दिया था, पैसे नहीं देने के कारण। फिर मैंने पैसा देकर फोन जोड़वाया और इंटरनेट का बिल नहीं जोड़ने का आग्रह के स‌ाथ पत्र भी दिया कि अब मैं आपकी इंटरनेट स‌ेवा नहीं लेना चाहता, फिर जब बिल का स‌मय आया, तो इन्होंने बिल नहीं भेजा। जब मैंने खुद स‌े बिल निकाला, तो देखा कि फिर नेट का बिल जोड़ दिया गया है, जबकि मेरा इंटरनेट का कनेक्शन कटे हुए तीन स‌ाल हो गये। बताइये चोरों की चोरी। मैं काफी दौड़ा तो बाद में इसे कम किया गया। मैं तो ठगा स‌ा महसूस कर रहा हूं। पता नहीं इंटरनेट पर बीएसएनएल का अधिपत्य कब स‌माप्त होगा।
    Anil said...
    सारे हिंदुस्तान में एक ही नंबर क्यों नहीं लगा देते BSNL वाले?
    neeshoo said...
    BSNL- फुलफार्म है भाई साहब नहीं लगेगा ।
    रचना said...
    aap ki bheji hui post jo email sae aayee thee usko naari blogpar publish kar diyaa thaa
    प्रवीण त्रिवेदी...प्राइमरी का मास्टर said...
    चलिए ममता जी !! आपका इन्टरनेट की वर्चुअल दुनिया में स्वागत है !!
    समयचक्र - महेन्द्र मिश्र said...
    ख़ुशी की बात है कि आपका नेट अब चल गया है वैसे एअर टेल का कनेक्शन यूज करे . नेट जब बंद हो जाता है तो चैन नहीं पड़ती है . नेट वगैर सूना सूना सा लगता है . अब जल्दी से कुछ पोस्ट लिख लीजिये. धन्यवाद.
    अविनाश वाचस्पति said...
    जहां नहीं नेटा रे
    वहां नहीं चैना रे
    ज्ञानदत्त पाण्डेय | Gyandutt Pandey said...
    मेरे विचार में भारत वस्तु उत्पाद ठीक ठाक करने लगा है पर सर्विसेज के मामले में बहुत कच्चा है - चाहे जो भी क्षेत्र ले लें।
    अनूप शुक्ल said...
    बधाई!
    P.N. Subramanian said...
    सर्वप्रथम तो बधाई हो. बीएसएनएल को बदलने की कोशिश न ही करें. सब एक से हैं.
    दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
    ममता जी, बीएसएनएल से रुष्ट लोगों की संख्या भारत में अधिक है। लेकिन इस लिए कि उसके ग्राहकों की संख्या दूसरे नेटवर्क से कई गुना अधिक है। वास्तविकता यह है कि बीएसएनएल से अच्छा कोई नहीं। वे बहुत कम साधनों से बहुत अच्छी सेवाएँ दे रहे हैं। सरकार के स्तर पर हमेशा यह कोशिश रहती है कि बीएसएनएल की सेवाएँ अच्छी न हों ताकि वहाँ दूसरे नेटवर्क को फलने फूलने का अवसर मिले। इस के बदले वाकई बड़े अधिकारियों और मंत्रियों की सेवा की जाती है। लेकिन बीएसएनएल के कर्मचारी साधनों की कमी और काम के अत्यधिक दबाव के बावजूद भी इसे आज भी सर्वश्रेष्ठ सेवा बनाए रखने के लिए प्रयत्नशील हैं। यह बीएसएनएल ही है जिस के कारण लगातार संचार सेवाएँ सस्ती हुई हैं। ग्रामीण क्षेत्रों की तो वह अकेली कर्ताधर्ता है।
    मेरा तो मानना है कि हमें भी उस की श्रेष्ठता बनाए रखने में मदद करनी चाहिए।
    Suresh Chiplunkar said...
    सुब्रहम्ण्यम जी और द्विवेदी जी दोनों से सहमत, मेरे पास भी गत 4 साल से BSNL का फ़ोन और नेट है, आज तक जब भी दो-चार बार समस्या आई है 24 घण्टे में ठीक हो गई… प्रायवेट वाले इससे भी बड़े चोर हैं…
    लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...
    i can imagine ..how frustrating it must be Mamta jee :-(
    Good your connection is working ..
    मोहन वशिष्‍ठ said...
    चलो कोई बात नहीं देर आए दुरुस्‍त आए अब चला तो अभी सही अब लिख डालो और मिटा दो उन दिनों की कसर जिन दिनों में आप नहीं लिख पाए
    रवीन्द्र रंजन said...
    ममता जी बधाई नेट कनेक्शन सही होने की।

    नदीम जी, आपका गुस्सा कुछ हद तक तो जायज है लेकिन पूरी तरह नहीं। आपकी बात से पता चलता है कि आप एक जागरूक उपभोक्त नहीं हैं। (अब शायद बन गए होंगे)सवाल यह है कि जब इतने दिनों तक बिल नहीं आया तो आपने जानने की कोशिश क्यों नहीं की...बिल क्यों नहीं आया?
    मैं कोई बीएसएनएल की तरफदारी नहीं कर रहा हूं। लेकिन मैंने महसूस किया है कि कंपनी कोई भी हो अगर उपभोक्ता जागरुक नहीं है तो वह उसकी कमजोरी का पूरा फायदा उठाती हैं। तकनीकी और कानूनी रूप से वह खुद को बचाते हुए भी उपभोक्ताओं को मूर्ख बनाती हैं। इसलिए जागरूक उपभोक्ता बनना जरूरी है। फिर किसी की मजाल नहीं कि वह चीटिंग कर पाए।
    डॉ. मनोज मिश्र said...
    चलिए यह सब तो होता रहेगा ,खास बात यह रही कि देर आये -दुरुस्त आये .
    अभिषेक ओझा said...
    बधाई जी ! हमारे कनेक्शन के साथ भी ऐसा ही हुआ था... बस बिएसनेल की जगह एयरटेल था !
    Science Bloggers Association said...
    इसके लिए आपको मुबारकबाद दी ही जासकती है।
    ----------
    तस्‍लीम
    साइंस ब्‍लॉगर्स असोसिएशन
    नारदमुनि said...
    ant bhala so sab bhala, narayan narayan
    kunwarji71 said...
    mamtaji bsnl ki baat hi nirali he hum phone karte he tehri oor lag jatta he chamoli mobile ki to ye halat he ki hamesa net work bussy or not rechaible rahata he
    अल्पना वर्मा said...
    kahan chali gayin Mamta ji aap?net chal gaya magar..aap is post ke baad bilkul dikhayee nahin di hain.apna khyal rakheeye.

Post a Comment