आज फ़्रेडशिप डे है

सबसे पहले तो फ़्रेडशिप डे की सभी को ढेर सारी शुभकामनायें ।

वैसे दो दिन पहले भी वहाटसऐप ग्रुप पर फ़्रेंडशिप डे खूब मनाया गया था । बहुत सारे मैसेज भेजे गये थे । और आज फिर से फ़्रेडशिप डे के संदेश मिल रहें है ।

अच्छा है दोस्ती को जितना सेलिब्रेट करो उतनी ही पक्की होती है ।

फ़्रेंड या दोस्त कौन वो जिससे बेझिझक कोई भी बात कह सकें ।

फ़्रेंड की कोई एक परिभाषा नहीं है और ना ही फ़्रेंडशिप या दोस्ती को किसी टेप से नापा जा सकता है । चाहकर भी नहीं नाप सकते है ।
क्या ग़लत कह रहें है ।

ज़रूरी नहीं कि साथ पढ़ने और खेलने वाले ही दोस्त हों । हम उम्र ही सिर्फ़ दोस्त हो । ये भी ज़रूरी नहीं है ।

स्कूल और यूनिवर्सिटी में पढ़ते हुये बहुत दोस्त बने । और जिनमें से कईयों से आज तक दोस्ती क़ायम है । जब तब बातें होती रहती है ।

नब्बे के दशक में जब हम काम करते थे तो उस ऑफ़िस में हमारी कुछ दोस्तें हमारी हमउमर थीं तो वहीं हमारी दो दोस्तें हमसे उम्र में जरूर बड़ी थी पर हमारी सोच एक थी और आज भी हमारी दोस्ती बख़ूबी चल रही है ।

हमारे किटी ग्रुप में कुछ हमसे बड़ी तो कुछ छोटी है पर जब हम सब मिलते है तो ऐसा कहीं से नहीं लगता है कि हम लोगों की उम्र में या सोच में कोई अंतर है ।

वैसे हमारी मम्मी भी हमारी बहुत अच्छी दोस्त थी । वो क्या है ना जब हमारी सब दीदी लोगों की शादी हो गई थी तो हम और मम्मी दोनों की खूब छनती थी । 😊🙏गप्पें मारना हो या ताश खेलना हो या किसी की भलाई बुराई ही क्यों ना करनी

जिस तरह हम दोस्तों के साथ घंटों फोन पर बात कर सकते है एक ज़माना था जब हम अपनी मम्मी से भी घंटों यहाँ वहाँ की बातें किया करते थे ।

दोस्ती की यही ख़ासियत है कि वो उम्र का फ़र्क़ नहीं देखती है बस जिससे दिल और सोच मिल जाती है वही दोस्त बन जाते है । 🙏😁

तो चलिये एक बार फिर से सभी दोस्तों को मित्रता दिवस की खूब सारी बधाई ।

Comments

Popular posts from this blog

क्या उल्लू के घर मे रहने से लक्ष्मी मिलती है ?

निक नेम्स ( nick names )

क्या सांप की आँख मे मारने वाले की तस्वीर उतर जाती है ?(एक और डरावनी पोस्ट )