Friday, September 25, 2009

इतने समय से सुनते आ रहे थे की मार्केट मे नकली नोट चल रहे है पर पहली बार हमें नकली नोट मिला और पहली बार ही नकली नोट देखा भी । :)

तो सवाल ये की नकली नोट भला हमारे पास आया कहाँ से ?

१९ सितम्बर को हम दिल्ली के अंसल प्लाजा मे बने Mcdonalds मे गए थे ।(जानते है आप लोग सोच रहे है की पिछली पोस्ट तो गोवा से लिखी थी और अब दिल्ली से लिख रहे है . अचानक हम गोवा से दिल्ली आ गए है ) और वहां से हमने take away लिया । और जब हमने काउंटर पर ५०० रूपये का नोट दिया तो उस काउंटर वाले ने बाकायदा लाइट मे चेक किया की ५०० का नोट असली है या नही । और उसने हमें २०० रूपये वापिस किए और हमने बिना सोचे और बिना चेक किए दोनों १०० के नोट अपने पर्स मे रख लिए । (अब ये तो सपने मे भी नही सोचा था की १०० का नकली नोट मिलेगा ):)

खैर अगले दिन घर पर जब सब्जी वाले से सब्जी लेने के बाद उसे १०० का नोट दिया तो उसने ये कह कर की ये नोट ठीक नही है ,नोट वापिस कर दिया । तो हमने उससे पूछा की भला इस नोट को वो क्यूँ नही ले रहा है । तो इस पर वो सब्जी वाला बोला की जी ये नोट कुछ हल्का है । और रंग कुछ अलग है ।

ये सुनकर पहले तो सब्जी वाले पर गुस्सा आया (जो की ग़लत था )और फ़िर Mcdonalds वालों पर की अपना तो नोट देख कर लेते है और कस्टमर को नकली नोट देते है । अपने पर भी गुस्सा आया की नोट को देख कर क्यूँ नही लिया हालाँकि उस समय तो हमें फर्क भी नही पता चलता ।

उस दिन के बाद से अब तो हम हर नोट चेक करते है पर अब भी असली -नकली का फर्क समझना मुश्किल लग रहा है । क्यूंकि किसी मे रंग तो किसी मे १०० अलग तरह से लिखा है तो किसी मे साइन अलग बना है । अब तो हर नोट ही नकली लगता है ।

और कल जब gas वाला आया तो उसने ५०० के बदले मे जो १०० के नोट दिए उन्हें जब हम चेक कर रहे थे तो वो बोला की मैडम सब नोट ठीक है और हमारे ये कहने पर की एक बार हमें नकली नोट मिल चुका है और जब उसे वो नकली नोट दिखाया तो बोला की उसका दिया हुआ नोट असली है . और हमारे पूछने पर की अगर नकली निकला तो वो बोला की आप हमें वापिस कर देना। और उसने अपना नाम उस नोट पर लिखा दिया ।

चलिए कुछ असली और नकली नोट की फोटो लगा रहे है । देखे आप लोग फर्क कर पाते है या नही ।तो बताइये कौन सा असली है और कौन सा नकली नोट है । :)


17 Comments:

  1. sandeep sharma said...
    हमें तो समझ नहीं आया असली-नकली में भेद...
    फोटो के नीचे कैप्शन भी दे देते तो बहुत अच्छा रहता...

    पर आपके साथ हुए वाकये से हम लोग भी आगे से ध्यान रखेंगे..
    समयचक्र - महेंद्र मिश्र said...
    ऊपर वाले असली है . बाकी आखिरी के मिक्स नोट याने नकली है .
    डा प्रवीण चोपड़ा said...
    तो, इस का मतलब यह हुआ कि जो नकली-नोट आप को मिला वह अभी भी आप के पास ही है !!वैसे यह एक नई सिरदर्दी है लोगों के लिये कि हर नोट को हर कोने से चैक करते फिरें।
    एक कहावत याद आ गई --- दूध का जला छाछ भी फूंक फूंक के पीता है।
    Udan Tashtari said...
    भारत गये थे तो कोई हमें ५०० का नकली नोट टिका गया. अभी भी धरे हैं, बस, फोटो नहीं खींचे. :)
    दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
    पोटो में सब असली जैसे ही लग रहे हैं। हाँ नोट खुद होते तो हम जरूर पहचान लेते।
    अविनाश वाचस्पति said...
    नोटों की असली नकली
    फोटो के चक्‍कर में न उलझें
    पहले तो ये बतलायें
    ममता जी जब अब
    भी दिल्‍ली में ही हैं तो
    मुझे फोन क्‍यों नहीं किया
    09868166586
    आपके फोन का इंतजार है।

    इन असली नकली नोटों पर
    मेरी एक विशेष पोस्‍ट आगामी
    सप्‍ताह प्रकाशित हो रही है
    जो कि इस समस्‍या से जुड़े
    पहलुओं पर एकदम नए सिरे से
    प्रकाश डालेगी जिसमें
    बिजली भी खर्च नहीं होगी
    क्‍योकि आप सभी जानते ही हैं कि
    दिल्‍ली में बिजली महंगी कर दी गई है।
    राज भाटिय़ा said...
    भाई हम ने तो चेक ही नही किया, जेसे आते वेसे ही देदेते थे, लेकिन कमाल है.... इतनी अच्छी सरकार, ईमान दर नेता, त्याग की मुर्तिया फ़िर भी...देश का यह हाल
    राजीव तनेजा said...
    कई बार मुझे नकली नोट मिल जाते हैँ लेकिन अपुन तो उन्हें आगे सरका देते हैँ :-)
    गिरीश बिल्लोरे 'मुकुल' said...
    ab to sab asalee ho gae
    mamta said...
    ऊपर वाली दोनों फोटो मे जो नोट थोड़ा सा फटा हुआ है वो नकली नोट है । बाकी सब असली है ।

    अविनाश जी हम दिल्ली मे बस एक-दो दिन के लिए है उसके बाद इलाहाबाद जा रहे है ।
    ज्ञानदत्त पाण्डेय | Gyandutt Pandey said...
    अभी तक वास्ता नहीं पड़ा नकली नोट से।

    हां, नकली चीजें तो बहुत देखी हैं!
    अविनाश वाचस्पति said...
    @ ममता जी
    कल रविवार को ही मिल लेते हैं
    आप मेरे नंबर पर
    एड्रेस एस एम एस
    कीजिएगा।
    काजल कुमार Kajal Kumar said...
    अगर सरकार अपने नोटों पर 'असली' शब्द भी छाप दे तो मुझ जैसों का बहुत भला होगा. जिस नोट पर 'असली' नहीं छपा होगा, समझ जाएंगे कि वही नकली है.
    हर्षवर्धन said...
    मुझे तो आज तक नकली नोट मिला ही नहीं। शायद इसीलिए कि समझ में कैसे आए :)
    अभिषेक ओझा said...
    हम तो हाथ में कोई थमा दे तब भी न पहचान पाएं. तस्वीर में क्या बताएं :)
    अविनाश वाचस्पति said...
    @ अभि
    षेक ओझा
    बनाए तो आपके लिए ही हैं
    पर आप मिलते नहीं है
    इसलिए दूसरों को थमा दिए जाते हैं
    M I Ahmed said...
    Hello Mamataji,

    This is a very good information. Thanks.

    I am Iftekhar Ahmed working at MyVideoTalk Technologies.

    If you find time have a look at my blog www.call2earn.blogspot.com

Post a Comment