Friday, February 17, 2012

अरे कहीं आप ये तो नहीं सोच रहे की हम आप लोगों को धमकाने जा रहे है। अरे नहीं इतने ज़माने बाद ब्लॉगिंग दोबारा शुरू की और उसपर आप लोगों को कुछ कहें भला ऐसा कैसे हो सकता है। अरे दरअसल पिछले साल हमारे बेटों ने मर्फी रिचर्ड का रूम हीटर खरीदा था जो कुछ दिन बाद यानी पिछले साल दिसंबर मे खराब हो गया था । बेटों ने कई बार कंपनी मे complaint की पर वहां से कोई भी नहीं आया।

खैर इस साल चूँकि हम यहां दिल्ली मे है और रूम हीटर वारंटी पीरियड मे है तो सोचा की complaint कर दी जाए और बस २६ दिसंबर को मर्फी रिचर्ड के कस्टमर केयर पर फ़ोन करके complaint की और अगले दिन ही उनका टेक्नीशियन आया और उसने रूम हीटर देखने के बाद कहा कि वो तो बजाज का टेक्नीशियन है और ये प्रोडक्ट मर्फी का है इसलिए हमें दोबारा कस्टमर केयर पर फ़ोन करके नई complaint करनी होगी ।

तो हमने अगले दिन यानी २८ दिसंबर को फिर से मर्फी रिचर्ड के कस्टमर केयर पर फ़ोन किया और बहुत जोर देकर और खास तौर पर ये कहा कि मर्फी का ही टेक्नीशियन भेजे । और कमाल कि बात उसी दिन शाम को उनका टेक्नीशियन आया और रूम हीटर देखकर बोला कि ये तो यहां पर ठीक नहीं हो सकता है। इसको कंपनी मे ले जाना होगा। हमारे पूछने पर कि कब तक बनाकर लाओगे वो बोला २-३ दिन तो लग जायेंगे। तो हमने उसका नाम और मोबाइल नंबर लेकर हीटर उससे दे दिया।

शाम को बड़ी शान से हमने अपने बेटे से कहा कि तुम लोग ठीक से complaint नहीं करते थे । हमने complaint किया और देखो आज उनका टेक्नीशियन आकर हीटर ले गया और २-३ दिन मे दे भी जाएगा। २-३ दिन क्या ४-५ दिन के बाद भी जब वो टेक्नीशियन नहीं आया तो हमारे पतिदेव बोले कि अब भूल जाओ उस हीटर को वो अब नहीं मिलने वाला। ये सुनकर हमें खराब लगा और हमने उस टेक्नीशियन को फ़ोन किया तो वो बोला कि मैडम वो हीटर बन नहीं सकता है और चूँकि ये वारंटी पीरियड मे है इसलिए कंपनी उसे बदलकर नया हीटर देगी जिसमे २-३ दिन लग जायेंगे।

बस तब से २-३ दिन का गाना उन लोगों का चलता रहा। और हम कभी कस्टमर केयर से मर्फी रिचर्ड कंपनी के दिल्ली के रीजनल हेड तो कभी उनके बॉस का फ़ोन नंबर लेकर फ़ोन करते रहे और कोई यही जवाब देते कि मैडम बस २-३ दिन मे आपके घर नया हीटर पहुंचा दिया जाएगा। हमने भी ठान लिया था कि हम इन लोगों से हीटर लेकर ही रहेंगे। और ऐसे ही अलग-अलग लोगों को फ़ोन करते करते हम तंग आ गए थे तो २३ जनवरी को हमने उनके बॉस को फ़ोन किया और जैसे ही हमने अपना नाम बताया तो वो बोला कि मैडम आज का दिन बस शाम तक रूम हीटर आपके घर पहुँच जायेगा । तो हमने भी उसे एक तरह से धमकाते हुए कहा कि अगर अब आपने रूम हीटर नहीं भेजा तो २८ जनवरी के बाद हम कंजूमर कोर्ट मे आपके खिलाफ केस कर देंगे। तो छूटते ही वो तुरंत बोला कि नहीं मैम बस आज का दिन।
खैर उस दिन शाम को तो नहीं अगले दिन उनका आदमी हमारा वाला रूम हीटर लेकर गया और हमारे पूछने पर कि भला इतने दिन लगते है एक रूम हीटर को repair करने मे तो वो बड़ी शराफत से बोला कि मैम sorry .कभी -कभी हो जाता है

4 Comments:

  1. Rajesh Kumari said...
    aajkal seedhi ungli se ghee kahan nikalta hai Mamta ji.sundar aalekh.
    यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...
    आज 19/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर (सुनीता शानू जी की प्रस्तुति में) लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!
    vidya said...
    जोर की आजमाइश कभी -कभी काम आती ही है
    :-)

    शुभकामनाएँ..आपको और आपके हीटर को भी..
    GYANDUTT PANDEY said...
    बधाई! रिपेयर हो कर मिला या रिप्लेसमेण्ट में!? रिपेयर हुआ तो और भी शौर्य की बात है कि उनसे ठीक करवा लिया!

Post a Comment