divar island of goa

इससे पहले गोवा के beaches और मन्दिर के बारे मे तो कई बार हमने लिखा है पर आज गोवा के island के बारे मे हम लिखने जा रहे है ।गोवा मे islands है ये पढ़कर कहीं आपको आश्चर्य तो नही हो रहा है । गोवा मे न सिर्फ़ beaches और मन्दिर है बल्कि गोवा मे कुछ ५-island भी है जैसे chorao,divar,वगैरा panjim के पास है । वैसे chorao island नदी और सड़क दोनों रास्ते से जुड़ा है पर सड़क के रास्ते जाने मे ज्यादा समय लगता है इसलिए ज्यादातर लोग ferry से ही जाते है ।chorao island पर ही डॉक्टर सलीम अली bird सैंक्चुरी भी है जिसके लिए या तो सुबह या फ़िर शाम को जाना चाहिए क्यूंकि वो समय ही सबसे सही होता है विभिन्न प्रकार की चिडियों और पक्षियों को देखने का ।

चलिए तो आज आपको divar island की सैर करा दी जाए । divar island सिर्फ़ ferry के द्वारा ही जाया जा सकता है । और इसके लिए ferry रायबंदर मे बने गोवा इंस्टीटियुत ऑफ़ मैनजमेंट के ठीक सामने से मिलती है । अभी तक इस पर यात्रियों से कोई भी किराया नही लिया जाता था पर कार ट्रक वगैरा से बहुत ही (subsidised rate ) नोमिनल सा किराया या यूँ कह ले बस नाम के लिए लिया जाता था पर अब पहली जुलाई से divar पर रहने वाले लोगों को छोड़कर ( जिन्हें अपना कोई भी पहचान पत्र दिखाना पड़ेगा ) बाकी सभी यात्रियों से किराया लिया जाएगा पर बहुत ज्यादा नही ,बस ५० पैसे और एक रुपया

खैर रायबंदर panjim से बस ६-७ की.मी की दूरी पर है । यूँ तो इस island मे devaaya आयुर्वेदिक रिसॉर्ट (स्टार )भी बना हुआ है जहाँ पर आपको हर प्रकार की सुविधा मिल सकती है । यहाँ पर ज्यादातर कॉटेज बनी हुई है और साथ ही यहाँ पर स्पा वगैरा की सुविधा भी है । साथ ही इस island पर एक छोटा सा मार्केट भी है जहाँ पर वहां रहने वालों की जरुरत की सभी चीजें मिल जाती है । divar island से बच्चे ferry से panjim पढने के लिए आते है । और इन बच्चों के टाइम पर दोनों तरफ बस खड़ी रहती है । इस island पर तकरीबन पर ३-५ हजार लोग रहते है ।

इस island पर जाने के लिए २ जगह से ferry ली जा सकती है एक तो रायबंदर से और दूसरी old goa मे बनी jetty से ।और इस viceroy 's arch जो की आदिल शाह के किले का एक द्वार है और जिसे पुर्तगालियों ने फ़िर से बनवाया था और पुर्तगाली गवर्नर इसी रास्ते से goa मे आते थे , से होकर ही jetty पर आया - जाया जा सकता हैरायबंदर से ferry हर ५-१० मिनट के अन्तर पर मिल जाती है । जैसे ही ferry मुड़ कर चलती है तो गोवा इंस्टीट्यूट ऑफ़ मैनजमेंट की खूबसूरत पीली बिल्डिंग दिखती है और साथ ही हिल कटिंग का भी नजारा देखने को मिलता है । और बस ५-७ मिनट की ferry ride के बाद ही divar island पहुँच जाते है । ferry से उतरते ही जैसे ही चलते है तो दाहिनी ओर old goa के सभी सफ़ेद रंग के चर्च घने पेड़ों के बीच बहुत सुंदर दिखाई देते है । हमारे कैमरा से तो उतनी साफ़ फोटो नही आई है (वरना जरुर लगाते )पर अगर खूब अच्छा कैमरा हो तो फोटो zoom करके अच्छी आ सकती है । ferry से वापिस आते हुए अगर सूर्यास्त का समय हो जाता है तो ferry पर से ये बहुत ही मन मोहने वाला दृश्य लगता है ।

तकरीबन एक -डेढ़ की.मी .तक कुछ ख़ास नही बस धान के खेत जरुर दिखते है । पर हाँ सड़क के जो दोनों ओर पानी है उसमे लोग मछली पकड़ते हुए जरुर देखे जा सकते है । :)

पर ये एक की.मी की ड्राइव बहुत अच्छी लगती है । इस सड़क के ख़त्म होते ही चढाई शुरू हो जाती है और हर थोडी दूर पर २-३ सड़क मिलती है । वैसे आप किसी भी सड़क पर चले जाए खोने का डर नही है क्यूंकि एक तो island छोटा है और दूसरे खोकर आप जायेंगे कहाँ । :)

खैर इस island पर बना चर्च और मन्दिर दोनों ही देखने लायक है । एक पहाड़ पर मन्दिर बना है और दूसरे पहाड़ पर चर्च बना है । कार से जाने मे घूम कर जाना पड़ता है वरना मन्दिर से चर्च का बस २ मिनट का पैदल का रास्ता है ।


चर्च तो सुबह और शाम ही खुलता है ,ऐसा इसलिए कह रहे है क्यूंकि हम ३-४ बार पहले गए भी है दिन मे तो चर्च हमेशा बंद रहता था पर इस बार शाम को गए थे ४ बजे तो पहली बार इस चर्च को अन्दर से देखा । चर्च के पास ही बड़ा पुराना पेड़ है जिस की जड़ें कभी-कभी आपस मे इस तरह से गुंथ जाती है की उनपर बैठकर झूला भी झूला जा सकता है ।

वैसे इस मन्दिर मे ३ देवताओं के मन्दिर बने है मुख्य मन्दिर गणेश जी का साथ ही एक पहाड़ नीचे हनुमान जी का मन्दिर है जहाँ हनुमान जी की सफ़ेद मूर्ति है और यहाँ से पहले हनुमान जी की सफ़ेद मूर्ति हमने नही देखि थी । और एक पहाड़ ऊपर सत्तारी देवी का मन्दिर (लक्ष्मी ) है । और यहाँ से आप गोवा का खूबसूरत नजारा भी देख सकते है ।

इस island पर इतनी शान्ति रहती है की क्या कहें । बड़े और खूबसूरत घर दिखेंगे पर रहने वाले कम दीखते है । वैसे आबादी भी कम है :) हाँ यहाँ पर कुछ पुर्तगाली लोग भी रहते है जिनके घरों को बड़ी आसानी से पहचाना जा सकता है क्यूंकि पुर्तगालियों के घर के ऊपर मुर्गा (rooster) बना होता है जो की पुर्तगाल का राष्ट्रीय पक्षी है । और यहाँ के बाजार मे सुबह शाम ही थोडी भीड़-भाड़ दिखाई देती है वरना पूरे island का चक्कर लगा लीजिये बमुश्किल १० -२० लोग ही दिखेंगे ।












अरे एक बात तो बताना भूल ही गए यहाँ पर गरमा गरम पकौडे बहुत अच्छे मिलते है पर वो भी सिर्फ़ शाम को दिन मे नही । :)

Comments

क्या सुन्दर माहौल है और इतनी शांति कहाँ मिलेगी. आभार
annapurna said…
अच्छी जानकारी भारी पोस्ट, तस्वीरे भी सुन्दर !
waah mamtaa jee..
aaj to chainal par discovery type post hai..bahut hee sundar..maja aa gaya....kabhi na kabhi to goaa aayenge...
बहुत सुंदर जानकारी दी आप ने ओर चित्र भी खुब सुरत है. धन्यवाद
बहुत सुकून है इन जगहों में।
सुंदर चित्रण ,आभार .
काफी समेटा आजकी पोस्ट मेँ आपने ममता जी और गहरे नीले रँग से पुते घर बहुत भव्य दीख रहे हैँ
गोवा की सैर भली लगी-
स स्नेह,
- लावण्या
वाह ! अच्छी सैर.
इस Island का बहुत ही बढ़िया vivran दिया आप ने..ऐसा लगा आप के साथ ही ghum रहे हैं..
-chitr भी sundar हैं...hanumaan जी की safed murti! अद्भुत !
-sagar की tasveer behad manohari है.
-neele रंग का purtgali [?] घर भी dekhne में बड़ा sundar लग रहा है.
बहुत सुंदर ममताजी। वैसे तो मैं अभी तक गोवा ही नहीं गया हूं। लेकिन, सोच रहा हूं कि यहां का कार्यक्रम तभी बनाऊं जब कम से कम एक हफ्ते की छुट्टी हो।
गोवा जाने का प्रोग्राम तो कई बार बना पर किसी ना किसी कारण से नही जा पाये आज लगा आपके साथ-साथ हमने भी गोवा की सैर कर ली, आपने बहुत सुंदर फ़ोटो लिये है,इस खूबसूरत सफ़र के लिये शुक्रिया।
ममता जी,
घर बैठे इतने सुन्दर स्थल की सैर कराने का शुक्रिया.

Popular posts from this blog

कार चलाना सीखा वो भी तीन दिन मे .....

क्या उल्लू के घर मे रहने से लक्ष्मी मिलती है ?

निक नेम्स ( nick names )